इतिहास के पन्नों में 26 दिसंबर

  • 26 दिसंबर 2011

इतिहास के पन्नों को पलटकर देखें तो पाएंगे कि 26 दिसंबर को ही हिंद महासागर में आई सुनामी में हज़ारों लोगों की मौत हो गई थी.

2004: सुनामी में हज़ारों की मौत

इमेज कॉपीरइट bb
Image caption इस त्रासदी में दो लाख लोगों की मौत हो गई थी.

हिंद महासागर में आए भयंकर भूकंप और उसके प्रभाव से शुरू हुई सुनामी में दक्षिणी एशिया में 10,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी. तेरह देशों को मिलाकर कुल मरने वालों की तादाद दो लाख थी.

इंडोनेशिया के आचे के पास के समुद्र में 8.9 की तीव्रता वाले भूकंप के बाद सुनामी की जिस तरह की लहरें उठी थीं, उसके बारे में कहा गया था कि वो पिछले 40 सालों में नहीं देखी गई थीं.

इंडोनेशिया में एक लाख अट्ठाईस हज़ार लोग मारे गए थे.

पानी की ऊंची-ऊंची लहरें जब 800 किलोमीटर प्रति घंटे की तेज़ रफ़्तार से तटीय क्षेत्रों में घुसीं तो लोगों को संभलने का मौक़ा भी नहीं मिला.

सूनामी के कुछ घंटों में ही श्रीलंका, भारत और इंडोनेशिया जैसे देशों ने सैकड़ो लोगों की मौत की ख़बर दी थी.

हाल के दिनों में आई ये सबसे भयंकर प्राकृतिक आपदा थी.

श्रीलंका में लाखों लोग बेघरबार हो गए. राष्ट्रपति चंद्रिका कुमारतुंगा ने राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा कर दी थी.

भारत के दक्षिणी तट से सैकड़ों मछुआरे लापता हो गए थे जिनके शव बाद में समुद्र से बहकर वापस आए.

सुनामी से प्रभावित होने वाले दूसरे देश थे, मलेशिया, थाईलैंड, मालदिव्स और शेचिलीस.

1990: सलमान रूशदी पर फ़तवा बरक़रार

इमेज कॉपीरइट none
Image caption सलमान रूशदी की किताब सैटनिक वर्सेस को पैग़ंबर मोहम्मद के लिए निंदा करने वाला बताया गया था.

ईरान के धार्मिक नेता अयातुल्लाह अली खुमैनी ने बयान दिया कि पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद की निंदा के लिए लेखक सलमान रूशदी पर मौत का फ़तवा जारी रहेगा.

अयातुल्लाह ने लेखक के पछतावे और किताब के पेपरबैक्स संस्करण न छापने के फैसले को ख़ारिज कर दिया.

भारतीय मूल के लेखक सलमान रूशदी 1989 में मौत का फ़तवा जारी किए जाने के बाद से 22 महीनों से गुमनाम ज़िंदगी बिता रहे थे.

रूशदी ने इस्लाम मज़हब में दुबारा से अपना भरोसा जताया था और ख़ुद को अपने किरदारों के मुस्लिम विरोधी भावनाओं से अलग करने की बात भी कही थी.

ये भावनाएं मिस्र के कुछ नेताओं से बातचीत के बाद व्यक्त की गई थीं.

ईरान ने साल 1998 में जाकर कहा कि वो लेखक के विरूद्ध मौत का फ़तवा लागू नही करेगा.

संबंधित समाचार