नाइजीरिया में कई धमाके, 39 की मौत

nigeria इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption नाइजीरिया की राजधानी अबूजा में चर्च में धमाका

नाइजीरिया में चल रहे हिंसक संघर्ष के बीच दो शहरों में हुए कई बम धमाकों में अब तक 39 लोगों की मौत हो चुकी है. धमाके मुख्य रूप से चर्चों को लक्ष्य करके किए गए जहां लोग क्रिसमस की प्रार्थना के लिए इकट्ठे हुए थे.

राजधानी अबुजा के पास मदल्ला स्थित सेंट टेरेसा चर्च में हुए धमाके में क़रीब 35 लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए. अन्य जगहों पर हुए हमलों में भी चार लोगों की मौत की खबर है.

इस्लामी चरमपंथी गुट बोको हरम ने इन धमाकों की ज़िम्मेदारी ली है.

इसके कुछ ही देर बाद जॉस शहर में एक चर्च के बाहर धमाका हुआ जिसमें एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई.

इनके अलावा उत्तरी नाइजीरिया के योब प्रांत में एक चर्च को निशाना बनाकर तीन धमाके हुए. सेना और पुलिस ने इन धमाकों की पुष्टि की है.

इनमें से दो धमाके दमातुरु शहर में हुए जबकि तीसरा धमाका गडका में हुआ. ग़ौरतलब है कि नाइजीरिया का योब प्रांत सुरक्षाबलों और बोको हरम चरमपंथियों के बीच चल रहे संघर्ष का प्रमुख केंद्र है.

एक अधिकारी ने पत्रकारों को बताया कि घायलों को बड़े अस्पतालों में पहुंचाया जा रहा है लेकिन आपात्कालीन सेवाओं के लिए उनके पास पर्याप्त संख्या में एंबुलेंस नहीं हैं.

उत्तरी नाइजीरिया में सेना और इस्लामी चरमपंथियों के बीच जारी हिंसा के मद्देनज़र वहां सुरक्षा काफ़ी बढ़ा दी गई हैं.

लेकिन लागोस में मौजूद बीबीसी संवाददाता फ़िदेलिस मबाह का कहना है कि राजधानी में ऐसी किसी घटना की आशंका नहीं थी.

नाइजीरिया की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रवक्ता युशाऊ शुआइबु का कहना है कि अधिकारी घटना से निबटने के लिए संघर्ष कर रहे थे.

उन्होंने कहा, ‘इस समय हम लोग मृतकों और घायलों को बाहर निकालने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन दुर्भाग्य से हमारे पास पर्याप्त संख्या में एंबुलेंस नहीं हैं. ज़्यादातर एंबुलेंस देश के राजमार्गों पर सेवा में लगी हैं.‘

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि उससे आस-पास के घरों की खिड़कियां टूट गईं.

इस्लामी चरमपंथी गुट बोको हरम और सेना के बीच उत्तरी नाइजीरिया में चल रहे हिंसक संघर्ष को देखते हुए कई मुस्लिम बहुल इलाक़ों के चर्चों में प्रार्थना कार्यक्रम निरस्त कर दिए गए थे.

संबंधित समाचार