इतिहास के पन्नों में 28 दिसंबर

  • 28 दिसंबर 2011

इतिहास में 28 दिसंबर की तारीख़ कई घटनाओं के लिए जानी जाती है. इसी दिन ब्रिटेन ने विमान में स्काई मार्शल तैनात करने का फ़ैसला लिया था और उत्तरी ब्रिटेन के सबसे बड़े बूचड़खाने को जानवरों में बीमारी की वजह से बंद कर दिया गया था.

2003: ब्रिटेन ने 'स्काई मार्शल' को हरी झंडी दी

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption विमान अगवा होने की आशंका को लेकर अमरीका में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई थी

ब्रिटेन ने साल 2003 में 28 दिसंबर को ही अमरीका में ब्रिटेन के कुछ विमानों में स्काई मार्शल यानि सुरक्षा गार्ड तैनात करने का फ़ैसला लिया था.

देश के गृह मंत्री डेविड ब्लंकेट और परिवहन मंत्री एलिस्टेयर डार्लिंग ने कहा कि अमरीका में घोषित अलर्ट को देखते हुए ब्रिटेन का ये क़दम बिल्कुल सही है.

पिछले हफ़्ते ही ये ख़बर आई थी कि चरमपंथी फ़्रांस के एक विमान को अगवा कर उसे किसी अमरीकी शहर पर हमले के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.

इसके बाद अमरीका ने राष्ट्रीय स्तर पर अलर्ट की घोषणा कर दी थी और एयरलाइन सुरक्षा कड़ी कर दी थी.

हालांकि ब्रिटेन के फ़ैसले का वहां के एयरलाइन पायलट एसोसिएशन 'बाल्पा' ने विरोध किया था.

बाल्पा के महासचिव जिम मैकऑस्लान का कहना था कि पायलट विमानों पर बंदूकें नहीं चाहते क्योंकि इससे ख़तरा है, बेहतर ये होगा कि हवाई अड्डों पर सुरक्षा चाकचौबंद की जाए.

बहरहाल, ब्रिटिश सरकार के फ़ैसले से दो दिन पहले ही ऑस्ट्रेलिया ने विमानों में स्काई मार्शल तैनात करने का फ़ैसला लिया था जबकि इस्राइल की विमान सेवा में पिछले 30 साल से सुरक्षा कारणों से स्काई मार्शल तैनात किए जा रहे थे.

1957: पशुओं की बीमारी से बंद हुआ बूचड़खाना

Image caption ब्रिटेन के सरे की एक पशुशाला में 2007 में ये बीमारी फैल गई थी

28 दिसंबर को ही इंग्लैंड के उत्तर में स्थित सबसे बड़े बूचड़खाने को पशुओं की फ़ुट एंड माउथ बीमारी की वजह से बंद करने का फ़ैसला लिया गया था.

ये बीमारी ऐसे कुछ पशुओं में पाई गई थी जिनका मांस के लिए वध किया जाना था.

लिवरपुल का ये स्टैनले बूचड़खाना पूरे उत्तर-पश्चिमी इलाकों को मांस की आपूर्ति करता था और हर हफ़्ते यहां हज़ारों पशुओं का वध किया जाता था.

इस बूचड़खाने की दस मील की परिधि में जानवरों की आवाजाही को प्रतिबंधित कर दिया गया था ताकि बीमारी न फैले.

यहां तक कि पांच मील के दायरे में आवारा कुत्तों की गतिविधियां रोक दी गई थीं.

कुत्तों को फ़ुट एंड माउथ बीमारी का मुख्य वाहक माना जाता है.

संबंधित समाचार