चीन: मनोरंजन कार्यक्रमों के प्रसारण में कटौती

हेनान प्रांत में टीवी की एक दुकान इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चीन की आबादी का 95 प्रतिशत हिस्सा टीवी का शौक़ीन है

चीन में सरकार की एक मुहिम के तहत सैटेलाइट प्रसारकों ने मनोरंजन कार्यक्रमों के प्रसारण में दो-तिहाई की कटौती कर दी है.

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक़, स्टेट ऐडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ रेडियो, फ़िल्म और टेलीविज़न ने मनोरंजन कार्यक्रम ज़रूरत से ज़्यादा प्रसारित करने पर रोक संबंधी एक आदेश जारी किया है जो एक जनवरी से प्रभावी हो गया है.

इसकी वजह से हर हफ़्ते प्राइम टाइम में प्रसारित होने वाले मनोरंजन कार्यक्रमों की संख्या 126 से गिरकर 38 हो गई है.

चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओ ने पश्चिमी संस्कृति के असर के प्रति आगाह किया था जिसके बाद यह क़दम उठाया गया है.

राष्ट्रपति हू जिंताओ ने कम्युनिस्ट पार्टी की एक पत्रिका में प्रकाशित आलेख में चीन की अपनी संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए प्रयास करने का आह्वान भी किया था.

सीमा तय

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption चीन में टेलैंट शो बड़े लोकप्रिय हैं

मनोरंजन कार्यक्रमों के प्रसारण में कटौती के आशय वाला आदेश बीते साल अक्तूबर में जारी किया गया था. इसके तहत ये तय किया गया है कि चीन के 34 सैटेलाइट चैनल हर हफ़्ते केवल दो मनोरंजन कार्यक्रम प्रसारित करेंगे.

आदेश में यह भी कहा गया है कि ये सैटेलाइट चैनल हर दिन अधिकतम 90 मिनट के मनोरंजन कार्यक्रम प्रसारित कर सकते हैं. इसके लिए साढ़े सात बजे से रात दस बजे तक का समय तय किया गया है.

सैटेलाइट प्रसारकों को सुबह छह बजे से देर रात के दरम्यान कम से कम दो घंटे के समाचार कार्यक्रम भी प्रसारित करने होंगे. इतना ही नहीं, उन्हें छह बजे से रात साढ़े ग्यारह बजे के बीच तीस मिनट की अवधि वाले कम से कम दो समाचार कार्यक्रम भी प्रसारित करने होंगे.

एक अनुमान के मुताबिक़ चीन की लगभग सवा अरब की आबादी का लगभग 95 प्रतिशत हिस्सा टेलीविज़न देखता है.

असर शुरू

स्टेट ऐडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ रेडियो, फ़िल्म और टेलीविज़न ने एक बयान में कहा है, ''सैटेलाइट चैनलों ने परंपरागत मान्यताओं और समाजवादी बुनियादी मूल्यों को बढ़ावा देने वाले कार्यक्रमों का प्रसारण शुरू कर दिया है.''

शिन्हुआ की एक ख़बर में कहा गया है कि जिन कार्यक्रमों में कटौती की गई है, उनमें एक बड़ा हिस्सा टेलैंट और रियालिटी शो का है. प्रतिबंधित कार्यक्रमों की सूची में वे टॉक-शो और भावनात्मक कहानियां भी शामिल हैं जिन्हें 'लो-टेस्ट' वाला माना जाता है.

बीते साल सितंबर में 'सुपर गर्ल' नामक एक लोकप्रिय टेलैंट शो का प्रसारण इस आधार पर बंद करने के लिए कहा गया था कि इसमें सभी उम्र की महिलाओं को गाते हुए दिखाया जाता है जो 'बहुत लंबा' है.

स्टेट ऐडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ रेडियो, फ़िल्म और टेलीविज़न ने अपने बयान में यह भी कहा है कि 'इफ़ यू आर द वन' जैसे डेटिंग शो और 'लि युआन चुन' जैसे धारावाहिकों का हफ़्ते के आख़िरी दिनों में प्राइम टाइम के दौरान प्रसारण किया जा सकेगा.

जियांग्सु सैटेलाइट टीवी पर प्रसारित 'इफ़ यू आर द वन', चीन का सबसे लोकप्रिय 'डेटिंग शो' है. वर्ष 2010 में इस शो ने दर्शकों की संख्या के सभी रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिये थे जिसकी वजह से दूसरे प्रसारकों ने भी इससे मिलते-जुलते कार्यक्रम बनाने शुरू कर दिए थे.

इस तरह के कार्यक्रमों के निर्माण में लागत कम आती है जबकि दर्शकों के बीच इनकी लोकप्रियता ज़्यादा होती है जो सेटैलाइट टीवी स्टेशनों के लिए मुनाफ़े का सौदा साबित होता है. लेकिन नियामकों ने इन कार्यक्रमों में सनसनीख़ेज और 'अश्लील' सामग्री पर नाराज़गी जताई है.

संबंधित समाचार