बदली गई बलात्कार की परिभाषा

बलात्कार
Image caption बलात्कार की नई परिभाषा में यौन पीड़ित पुरुषों को भी शामिल किया गया है

अमरीका की गुप्तचर संस्था संघीय जांच ब्यूरो यानी एफबीआई ने पिछले 83 वर्षों में पहली बार बलात्कार की परिभाषा में बदलाव करते हुए अब इसमें उन पुरुषों को भी शामिल कर लिया है जो अपने साथ हुए किसी भी तरह की यौन उत्पीड़न का विरोध नहीं कर पाते हैं.

इस नई परिभाषा से एफबीआई के आकंड़ों की सूची में बलात्कार पीड़ितों की संख्या तो बढ़ जाएगी लेकिन इससे किसी भी तरह से संघीय या राज्य के कानून में बदलाव नहीं आएगा.

जनप्रतिनिधि इन आंकड़ों का इस्तेमाल इस तरह की घटनाओं को रोकने के साथ-साथ पीडि़तों की मदद के लिए करेंगे.

कई अमरीकी राज्यों ने पहले ही बलात्कार की व्यापक परिभाषा को मान लिया है.

इससे पहले एफबीआई ने बलात्कार को परिभाषित करते हुए इसे एक महिला की मर्ज़ी के बग़ैर उसके साथ ज़बर्दस्ती शारीरिक संबंध स्थापित करना बताया था.

पुरुष भी यौन हिंसा के शिकार

अब एफबीआई द्वारा दी गई नई परिभाषा में महिला शब्द का ज़िक्र नहीं किया गया है उसकी जगह लिखा गया है,''हमारे यौन अंगों में बग़ैर हमारी मर्ज़ी के किसी अंग या वस्तु का हल्का प्रवेश भी बलात्कार कहलाएगा''.

इस व्याख्या में खा़सतौर पर सामने वाले की मर्ज़ी के बिना किए गए हस्तमैथुन का भी ज़िक्र किया गया है.

पिछले साल जुलाई महीने में कैबिनेट की बैठक में इस मुद्दे को उठाने वाले अमरीका के उपराष्ट्रपति जो-बाइडन ने इस फैसले को उन हज़ारों लोगों की जीत बताया है,जिनके साथ पिछले 80 वर्षों चली आ रही इस तकलीफ़ का कोई लेखा-जोख़ा नहीं है.

बाइडन ने कहा,''हम इसे तब तक सुलझा नहीं सकते हैं जबतक कि हम इसे पूरी तरह से जान नहीं लेते''.

सेंटर्स फॉर डिज़ीज़ कंट्रोल द्वारा वर्ष 2010 में किए गए एक शोध के अनुसार हर पांचवीं महिला और इकहत्तरवें पुरुष के साथ जीवन में कभी ना कभी बलात्कार की घटना होती है.

संस्था ने इन्हीं जानकारियों के बाद बलात्कार की परिभाषा में बदलाव किया है.

अमरीकी संसद ने इस साल महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा की समस्या पर ध्यान देने के लिए 59 करोड़ 20 लाख डॉलर की राशि जारी की है.

संबंधित समाचार