राजेश तलवार की ज़मानत बरक़रार

  • 9 जनवरी 2012
तलवार दम्पति का फ़ाइल फ़ोटो
Image caption सुप्रीम कोर्ट ने तलवार दंपति के ख़िलाफ़ मुक़दमा चलाने की अनुमति दे दी है.

दिल्ली से सटे नोएडा के बहुचर्चित आरुषि तलवार हत्याकांड मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आरुषि के पिता राजेश तलवार को चार फ़रवरी तक के लिए दी गई ज़मानत को बरक़रार रखा है.

राजेश तलवार को चार फ़रवरी को निचली अदालत में पेश होना होगा तब तक के लिए वो ज़मानत पर रहेंगे.

अपना फ़ैसला देते हुए अदालत ने कहा कि राजेश तलवार के ख़िलाफ़ आगे की कार्रवाई गाज़ियाबाद की अदालत तय करेगी.

फ़ैसले के बाद इस मामले से जुड़े कृष्णा के वकील फ़तेह चंद्र शर्मा ने बताया कि राजेश तलवार को निचली अदालत से जो ज़मानत मिली थी, सुप्रीम कोर्ट ने उसी को बरक़रार रखा है.

उन्होंने बताया कि अब चार फ़रवरी को राजेश तलवार की सीबीआई कोर्ट में पेशी होगी.

मुक़दमा

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को तलवार दंपति के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति दे दी थी.

इस बहुचर्चित मामले में आरुषि तलवार के माता- पिता नूपुर तलवार और राजेश तलवार अभियुक्त हैं.

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में न्यायमूर्ति एके गांगुली एवं न्यायमूर्ति जेएस खेहर की पीठ ने निचली अदालत में चल रहे इस मुकदमे को ख़त्म करने की तलवार दंपती की मांग खारिज कर दी थी.

ग़ौरतलब है कि आरुषि और तलवार परिवार के नौकर हेमराज की हत्या के मामले में सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट को खारिज करते हुए विशेष अदालत ने तलवार दंपति पर मुकदमा चलाने का आदेश दिया था.

याचिका

इसके खिलाफ तलवार दंपति ने पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. लेकिन, सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को उनकी याचिकाएं खारिज कर दी थीं और कहा था कि इस मामले में निचली अदालत के फ़ैसले में कुछ भी ग़लत नहीं है.

साल 2008 की 15-16 मई की रात तलवार दंपति के नोएडा स्थित आवास पर उनकी बेटी आरुषि मृत पाई गई थी. और उसके अगले ही दिन नौकर हेमराज की भी लाश घर की छत पर मिली थी.

संबंधित समाचार