अमरीका की चेतावनी, ईरान यूरेनियम संवर्धन रोके

ईरान इमेज कॉपीरइट 1
Image caption आईएईए का कहना है कि इस भूमिगत केंद्र में संवर्धन का काम शुरू हो गया है

अमरीका ने कहा है कि ईरान का यूरेनियम संवर्धन कार्यक्रम संयुक्त राष्ट्र करार के तहत उसके दायित्वों का उल्लंघन है.

अमरीका ने ईरान को इसे रोकने और अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के साथ सहयोग करने को कहा है.

आईएईए ने इस बात की पुष्टि की है कि ईरान ने कड़ी सुरक्षा के बीच एक भूमिगत केंद्र से यूरेनियम संवर्धन का काम शुरू कर दिया है.

आईएईए का कहना है कि उत्तरी ईरान के फ़ोर्डो प्लांट में मध्यम स्तर पर संवर्धन का काम शुरू हुआ है. आईएईए की प्रवक्ता गिल ट्यूडर ने बताया, "एजेंसी इसकी पुष्टि करती है कि इस केंद्र पर 20 प्रतिशत तक यूरेनियम संवर्धन का काम शुरू हो गया है."

अमरीका के विदेश विभाग की प्रवक्ता विक्टोरिया नूलैंड ने कहा है कि यह संवर्धन ईरान के शांति के प्रति इरादों पर शंका पैदा करता है.

बीस प्रतिशत की दर से संवर्धन होने पर यूरेनियम हथियारों के स्तर का हो जाता है. ईरान पहले ये कह चुका है कि वो यूरेनियम संवर्धन का काम शुरू करने की योजना बना रहा है.

हालाँकि उसका कहना है कि संवर्धन शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए किया जाएगा. दूसरी ओर पश्चिमी देश ईरान पर आरोप लगाते रहे हैं कि वो परमाणु हथियार विकसित करने की कोशिश कर रहा है.

अमरीका का कहना है कि फ़ोर्डो प्लांट में संवर्धन के काम से विवाद और बढ़ जाएगा. क़ोम के निकट इस केंद्र के बारे में वर्ष 2009 में जानकारी सामने आई थी, जब पश्चिमी ख़ुफ़िया एजेंसियों ने इसका पता लगाया था.

संदेह

ईरान का कहना है कि उसने वर्ष 2007 में इस परियोजना पर काम शुरू किया था, लेकिन आईएईए का मानना है कि डिज़ाइन का काम 2006 में ही शुरू हो चुका था.

बीबीसी के ईरान संवाददाता जेम्स रेनॉल्ड्स का कहना है कि फ़ोर्डो परमाणु केंद्र ने अपनी ओर लोगों का ध्यान तो खींचा ही है, संदेह भी पैदा किया है.

ये केंद्र भूमिगत है और इसकी ज़बरदस्त क़िलेबंदी की गई है. इसकी सुरक्षा सेना कर रही है और हवाई हमलों से इस पर निशाना लगाना काफ़ी मुश्किल है. अमरीका और इसराइल ने ईरान के परमाणु केंद्रों पर हमले से इनकार नहीं किया है.

लेकिन ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयतुल्ला अली ख़ामेनेई ने कहा है कि ईरान पश्चिमी देशों के दबाव में नहीं झुकेगा.

सरकारी टेलीविज़न पर दिए अपने भाषण में उन्होंने कहा, "इस्लामी प्रशासन ये जानता है कि वो क्या कर रहा है. प्रशासन ने अपना रास्ता चुना है और वो उस रास्ते पर क़ायम रहेगा."

ईरान के सेंट्रल बैंक पर अमरीकी की नई पाबंदियों के बाद से तनाव और बढ़ा है. यूरोपीय संघ ने भी कहा है कि वो ईरान के तेल निर्यात पर रोक लगाएगा. यूरोपीय संघ के विदेश मंत्री इस महीने इस फ़ैसले पर मुहर लगाने वाले हैं

संबंधित समाचार