पंजाब में चुनाव प्रचार चरम पर

punjab-election
Image caption पंजाब विधानसभा चुनावों में इस बार कांटे की टक्कर कांग्रेस और अकाली दल के बीच है

पंजाब में एक बार फिर से सरकार बनाने की कोशिश कर रहे शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी की गठबंधन ने इस बार के विधानसभा चुनावों में विकास को अपना मुख्य नारा बनाया है.

दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी राज्य की जनता को ये कह रही है कि अकाली दल के नेता राज्य को पिछले पांच साल से लूटते रहे हैं और कांग्रेस ही राज्य में सही और सच्ची सरकार दे सकती है.

चुनाव में प्रचार में निकले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री राजिंदर कौर भट्टल और अन्य नेता लोगों के बीच अकाली सरकार की कमियों को उजागर करने की कोशिश कर रहे हैं.

आरोप-प्रत्यारोप

कांग्रेस का आरोप है, ''बादल सरकार ने राज्यभर में अपनी बसें चला कर पूरे राज्य के ट्रांसपोर्ट सिस्टम, शराब के ठेकों और रेत के अवैध ख़नन पर कब्ज़ा कर खूब रुपया कमाया है''.

अमरिंदर कहते हैं,''अकालियों ने प्रदेश के केबल टेलिविज़न पर भी कब्ज़ा जमाने की कोशिश की ताकि वो मीडिया पर काबू पा सके'', उन्होंने पंजाब वासियों से कांग्रेस को वोट देने की अपील की ताकि वे बादल सरकार की हर ज़्यादती का हिसाब ले सके.

कांग्रेसी नेता अकाली शासन के दौरान उनपर दायर किए गए 'झूठे मुकदमों' का बदला लेने की भी बात कर रहे हैं.

वे बादल के 'विकास' के नारे को भी झूठ का पुलिंदा बता रहे हैं,उनके मुताबिक बादल सरकार के दौरान दस में से सिर्फ एक रुपये का विकास हुआ है और बाकि पैसा अकाली नेताओं की जेब में चला गया है.

'विकास जारी रखना है तो हमें वोट दें'

जबकि अकाली नेताओं का दावा है कि राज्य में सरकार ने सडकों से लेकर बिजली की स्थिति में ज़बरदस्त सुधार किया है. सुखबीर बादल कहते हैं, ''अगर आप चाहते हैं कि विकास और सुधार जारी रहे तो हमें दोबारा मौका दें.''

सुखबीर बादल 'राइट टू सर्विस एक्ट' जैसे कानून का हवाला भी दे रहे हैं, जिससे राज्य में बढ़ते भ्रष्टाचार को रोकने की कोशिश की गई है.

केंद्र की यूपीए सरकार पर निशाना साधते मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल जेल में बंद यूपीए सरकार में मंत्री रह चुके ए राजा और सुरेश कलमाड़ी का उदाहरण देते हुए कांग्रेस पर सालों से देश को लूटने का आरोप लगा रहे हैं.

लेकिन सालों तक अपने ताया जी प्रकाश सिंह बादल की छत्रछाया में रहने के बाद उनकी पार्टी छोड़ अपनी खुद की पार्टी बनाने वाले पीपुल्स पार्टी ऑफ पंजाब यानि पीपीपी के नेता मनप्रीत सिंह बादल कहते हैं,''कांग्रेस और अकाली दल की ख़राब नीतियों के कारण ही आज पंजाब की सरकार कर्ज़ में डूबी हुई है, इसलिए अब पंजाब की जनता को सरकार की कमान उनके हाथ में देना चाहिए''.

संबंधित समाचार