आडवाणी अनिवार्य मतदान के पक्ष में

लालकृष्ण आडवाणी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आडवाणी ने कहा कि मतदान करना हर नागरिक की मूलभूत ज़िम्मेदारी है.

चुनावी सुधार को लेकर चल रही बहस के बीच भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने गुरुवार को मतदान को अनिवार्य करने की ज़ोरदार वकालत की.

उनका कहना था कि मतदान को अनिवार्य बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है.

साथ ही आडवाणी ने चुनाव आयोग की उस योजना का समर्थन किया कि भारत के हर नागरिक का मतदाता के तौर पर पंजीकृत कराया जाना चाहिए.

आडवाणी का कहना था,''चुनाव आयोग को ये सुनिश्चत करना चाहिए कि सभी पंजीकृत मतदाता चुनावों के दौरान मतदान करे.''

मूलभूत अधिकार

उन्होंने कहा,''महत्वपूर्ण ये कि मतदान के प्रतिशत में बढ़ोतरी होनी चाहिए और अगर संभव हो तो ये सौ प्रतिशत के आस-पास होना चाहिए.''

गणतंत्र दिवस के मौके पर अपने निवास स्थान पर ध्वाज़ारोहण के समय उन्होंने कहा, ''भारत में मतदान को अनिवार्य बनाना मुश्किल नहीं है.लोगों को प्रोत्साहित करने की ज़रुरत है कि वे लोकतंत्र के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को समझें.''

उनका कहना था कि जहां शिक्षा का अधिकार अब एक मूलभूत अधिकार बन गया है वैसे ही ईमानदार प्रशासन के लिए मतदान करना भी नागरिकों की मूलभूत ज़िम्मेदारी है.

भाजपा की संसदीय पार्टी के अध्यक्ष आडवाणी का कहना कि चुनाव आयोग की चुनाव सुधार करने में अहम भूमिका है लेकिन इसके लिए राज्य सरकारों और राजनीतिक पार्टियों को भी आगे आना चाहिए.

संबंधित समाचार