इतिहास के पन्नों में 30 जनवरी

  • 30 जनवरी 2012

इतिहास में आज का दिन कई कारणों से याद किया जाएगा. आज ही के दिन साल 1972 में सेना के एक प्रदर्शन के दौरान हुए हंगामे और चलाई गई गोलियों में 13 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई थी. ब्रितानी नेता चर्चिल को आज के दिन ही अंतिम विदाई दी गई थी.

1972: गोलीबारी में 13 ब्रितानी नागरिकों की मौत

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption प्रदर्शनकारी बिना मुक़दमे के हिरासत में लिए जाने की नीति का विरोध कर रहे थे.

आज ही के दिन साल 1972 में ब्रितानी सेना को प्रदर्शनकारियों की एक भीड़ पर गोलियां चलानी पड़ी थी जिसमें 13 नागरिकों की मौत हो गई थी.

ये घटना लंदनडेरी के बॉगसाइड ज़िले में हुई थी.

गोलीबारी में 17 लोग घायल हुए थे जिसमें एक महिला भी शामिल थी.

सेना ने अपने दो जवानों के घायल होने की बात कही थी. इस मामले में 60 लोगों की गिरफ़्तारियां हुई थीं.

गोलीबारी तब शुरू हुई जब नागरिक अधिकारों के लिए प्रदर्शन कर रहे लोग परेड और मार्च पर लगे प्रतिबंध को ख़ारिज करते हुए पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड तक पहुंच गए.

शांतिपूर्ण प्रदर्शन निकाल रहे इन लोगों की संख्या 7000 से 10000 के क़रीब थी जो बिना मुक़दमा चलाए लोगों को हिरासत में लिए जाने की नीति के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे थे.

1991: अल-ख़ाफ़जी में अमरीकी सैनिक मारे गए

आज ही के दिन साल 1991 में इराक़ी सेना ने सउदी अरब की सीमा के नज़दीक एक शहर पर नियंत्रण कर लिया था.

अमरीका के नेतृत्व में सहयोगी देशों की सेना ने अल-ख़ाफ़ज़ी पर नियंत्रण के लिए कम से कम 24 इराक़ी टैंकों को बर्बाद कर दिया.

इस हमले में 12 अमरीकी सैनिकों की मौत हो गई थी.

दरअसल इराक़ को संयुक्त राष्ट्र ने कुवैत से हटने का अल्टीमेटम दिया था जिसे उसने मानने से इंकार कर दिया था. जिसके बाद ऑपरेशन डेसर्ट स्टोर्म शुरु किया गया था.

पिछले 14 दिनों से चल रहे इस ऑपरेशन में पहली बार सहयोगी देशों के सैनिकों की मौत हुई थी.

1965: चर्चिल को अंतिम विदाई

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption चर्चिल का 90 साल की उम्र में निधन हो गया.

साल 1965 में इसी दिन हज़ारों की संख्या में ब्रिटेन के लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री सर विंस्टन चर्चिल को अंतिम विदाई दी थी.

राजकीय सम्मान के बाद चर्चिल का इसी दिन अंतिम संस्कार किया गया.

चर्चिल को दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद वो लगभग कोमा की स्थिति चले गए थे जिससे वे कभी नहीं निकल पाए.

चौबीस जनवरी को उनका देहांत हो गया. वे 90 साल के थे. बीबीसी ने उनके निधन की घोषणा सुबह आठ बजे की. आधे घंटे के भीतर उनके घर के पास लोगों की भीड़ इकठ्ठा होनी शुरू हो गई थी.

संबंधित समाचार