इतिहास के पन्नों में एक फ़रवरी

आज ही के दिन वर्ष एक फ़रवरी 2003 में कोलंबिया शटल दुर्घटना में सात लोग मारे गए थे. 1979 में ईरान के धार्मिक नेता आयतुल्लाह ख़ुमैनी आज ही के दिन अपने देश वापस लौटे थे.

2003: कोलंबिया शटल हादसे में सात की मौत

इमेज कॉपीरइट NASA
Image caption पिछले 42 साल में अमरीका के विभिन्न अंतरिक्ष अभियानों में ये पहला हादसा था

आज ही के दिन कोलंबिया शटल हादसा हुआ था. यान में सवार सभी सात अंतरिक्ष यात्री इस दुर्घटना में मारे गए थे. पिछले 42 सालों में अमरीका के विभिन्न अंतरिक्ष अभियानों में ये पहला हादसा था.

तीन दिन बाद तत्कालीन राष्ट्रपति बुश ने ह्यूस्टन के अंतरिक्ष सेंटर में सभी अंतरिक्ष यात्रियों को याद किया .

विमान के मृत यात्रियों के परिवारजनों ने एक वक्तव्य में ज़ोर देकर कहा था कि इस हादसे की परछाई भविष्य के अंतरिक्ष कार्यक्रमों पर नहीं पड़नी चाहिए.

एक स्वतंत्र जाँच टीम ने महीनों यान के आख़िरी क्षणों की गहरी जाँच-पड़ताल की.

टीम ने अगस्त 2003 में एक रिपोर्ट दी. इस रिपोर्ट में कहा गया कि यान में उष्मा से बचाव के लिए बने कवच के टूट जाने से दुर्घटना घटी.

अंतरिक्ष यान की उड़ान के वक्त इस कवच में दरार पड़ गई थी जो बाद में टूट गया .

लेकिन इस रिपोर्ट में नासा की भी कड़ी आलोचना की गई. रिपोर्ट में तकनीकी कारणों के अलावा प्रबंधन को भी ज़िम्मेदार ठहराया गया.

1979: आयतुल्लाह ख़ुमैनी ईरान वापस पहुँचे

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption तेहरान में शिया इमाम का स्वागत करने के लिए करीब 50 लाख लोग सड़कों पर जमा थे

चौदह साल ईरान से बाहर रहने के बाद आज ही के दिन वर्ष 1979 में प्रमुख धार्मिक नेता आयतुल्लाह ख़ुमैनी वापस अपने देश पहुँचे थे.

तेहरान में शिया इमाम का स्वागत करने के लिए करीब 50 लाख लोग सड़कों पर जमा थे.

ईरान के शाह ने 78-वर्षीय ख़ुमैनी को 1963 में जेल भेज दिया था. उन पर सुधारों का विरोध करने का इल्ज़ाम लगाया गया. एक साल बाद उन्हें देश से बाहर निकाल दिया गया.

आयतुल्लाह के आने के दो हफ़्तों के अंदर ही ईरान के तत्कालीन प्रधानमंत्री शाहपुर बख़्तियार ने पद से इस्तीफ़ा दे दिया. उनकी जगह ली आयतुल्लाह के मनपसंद मेहंदी बज़र्गान ने.

बख़्तियार भागकर पेरिस पहुँचे जहाँ 1991 में उनके घर में उनकी हत्या कर दी गई.

अप्रेल 1979 में ईरान को इस्लामी गणराज्य घोषित कर दिया गया.

नवंबर में आयतुल्लाह ने छात्र चरमपंथियों के अमेरिकी दूतावास पर हमले का स्वागत किया था

उधर जुलाई 1980 में निर्वासन में मिस्र में ईरान के शाह की मृत्यु हो गई. ख़ुमैनी की मौत जून 1989 में हुई.

संबंधित समाचार