इतिहास के पन्नों में सात फ़रवरी

आज ही के दिन वर्ष 1945 में जर्मनी के खिलाफ़ युद्ध की योजना तैयार की गई थी. 1964 में आज ही के दिन ब्रितानी संगीत बैंड बीटल्स अमरीका पहुँचा था.

1945: जर्मनी को हराने की योजना की तैयारी

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption तीनों देशों के बीच हुई बैठक 11 फ़रवरी को समाप्त हुई

एक तरफ़ ब्रिटेन, अमरीका और सोवियत संघ और दूसरी तरफ़ जर्मनी. दोनो ही गुट एक दूसरे को हराने की तरक़ीबें ढूँढ रहे थे.

आज ही के दिन चर्चिल, रूज़वेल्ट और स्टालिन के बीच काले सागर इलाके के पास स्थित एक गुप्त स्थान पर बैठक हुई. बाद में इसे याल्टा या क्रिमिया सम्मेलन का नाम दिया गया. ये बैठक 11 फ़रवरी को समाप्त हुई.

ये भी पता चला कि ये बैठक याल्टा स्थित एक राजभवन में हुई थी. तीनो देशों के बीच समझौता हुआ कि वो जर्मनी को हराने के लिए साथ मिलकर काम करेंगे.

उन्होंने जर्मनी पर कब्जे़ की योजना बनाई. उन्होंने नाज़ीवाद खत्म करने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि वो जर्मनी की सेना को छिन्न-भिन्न कर देंगे और लड़ाई के लिए ज़िम्मेदार लोगों के साथ न्याय करेंगे.

पोलैंड के सवाल पर वहाँ चुनाव होने तक एक अस्थायी सरकार बनाने पर सहमति बनी. पोलैंड और सोवियत संघ की सीमा पर भी इस सम्मेलन में बातें तय पाई गईं.

जापान के विरुद्ध युद्ध में शामिल होने पर सोवियत संघ की मांग पर समझौता हुआ लेकिन इसके बारे में चर्चिल को पता नहीं था.

बैठक में भाग लेने वाले नेताओं ने 25 अप्रेल, 1945, को संयुक्त राष्ट्र की बैठक बुलाई.

1964: बीटल्स अमरीका पहुँचे

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption फ़रवरी 2004 में बीटल्स को ग्रामी पुरस्कारों में राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया गया

आज ही के दिन ब्रितानी रॉक बैंड ‘द बीटल्स’ के सदस्य अपने पहले भ्रमण पर अमरीका पहुँचे थे.

दोपहर एक बजे के आसपास जब वो केनेडी हवाई अड्डे पहुँचे तो उनके स्वागत के लिए 3,000 प्रशंसक वहाँ मौजूद थे.

कई लोग अपने स्कूल, कॉलेज, काम छोड़कर वहाँ पहुँचे थे. उनके हाथों में तख़्तियाँ थीं जिस पर लिखा था – हमें आपसे प्यार है. आप कृपया यहीं रहिए.

अमरीका के बाज़ार में अपनी जगह बनाने वाला बीटल्स पहला ब्रितानी संगीत बैंड था. कहा जाता है कि जब ये बैंड एक टीवी शो पर आया तो अमरीका में अपराध दर अपने 50 सालों के न्यूनतम स्तर पर पहुँच गया और करीब 40% अमरीकियों ने कार्यक्रम देखा.

फ़रवरी 2004 में बीटल्स को ग्रामी पुरस्कारों में राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

संबंधित समाचार