ऑस्ट्रेलिया में पान मसाले का विज्ञापन हटाया

  • 7 फरवरी 2012
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ऑस्ट्रेलियाई मैदानों पर हिंदी में लगे इन विज्ञापनों ने ध्यान अपनी ओर खींचा था

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने अपने देश में खेले जाने वाले क्रिकेट मैचों के दौरान बाउंड्री पर लगने वाले विज्ञापनों से पान मसाला बेचने वाली एक कंपनी के विज्ञापन हटाने का फ़ैसला किया है.

'सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड' की वेबसाइट के अनुसार, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ऐसा इसलिए कर रहा है क्योंकि उसे इस विज्ञापन के ख़िलाफ़ कई शिकायतें मिली थीं.

शिकायतकर्ताओं का कहना है कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया इसके ज़रिए ऐसी कंपनी का प्रचार कर रहा है जो तम्बाकू के सेवन को बढ़ावा दे रही है.

ये विज्ञापन भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हाल ही में खेले गए क्रिकेट मैचों के दौरान देखा गया था.

शिकायत

'सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड' के मुताबिक़, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अध्यक्ष जेम्स सदरलैंड को सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से एक पत्र मिला जिसमें 'कमला पसंद' नामक पान मसाला के विज्ञापन पर चिंता जताई गई.

स्वास्थ्य मंत्री तान्या प्लिबरसेक के अनुसार, इस विज्ञापन के सिलसिले में उन्हें कई शिकायतें मिलीं जिसके बाद उन्होंने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से इस बारे में और जानकारी मांगी है.

ग़ौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया में तम्बाकू के विज्ञापनों पर प्रतिबंध है और इस प्रतिबंध के उल्लंघन के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया पर भारी ज़ुर्माना लग सकता है.

एक अन्य अख़बार 'हेराल्ड सन' का कहना है कि बीते साल 26 दिसम्बर को खेले गए मैच के दौरान कुछ लोगों की आपत्ति के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस विज्ञापन को कुछ समय के लिए हटा दिया था.

जाँच

अख़बार 'हेराल्ड सन' के मुताबिक़, भारतीय उच्चायुक्त ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को भरोसा दिलाया कि विवादित उत्पाद में तम्बाकू नहीं है, जिसके बाद इस विज्ञापन को दोबारा लगा दिया गया था.

हेराल्ड सन के अनुसार, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय इस मामले की जांच कर रहा है और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस विज्ञापन को हटाने का फ़ैसला किया है.

धूम्रपान विरोधी स्थानीय संगठनों ने भी इस विज्ञापन पर आपत्ति जताई थी.

बीते साल नवंबर में ऑस्ट्रेलिया की सरकार सिगरेट के पैकेटों पर ब्रांड-लेबल पर रोक लगा दी थी.

इस क़ानून के तहत दिसम्बर 2012 से बाज़ार में मिलने वाले सिगरेट के पैकेटों पर कंपनियों के प्रतीक चिह्न नहीं लगेंगे.

सिगरेट को जैतून से मिलते-जुलते हरे रंग के डिब्बों में पैक करके ही बेचा जा सकेगा जिस पर ऐसी तस्वीरें छपी होंगी जो धूम्रपान के ख़तरे को दर्शाती हैं.

संबंधित समाचार