होंडूरास की जेल में भीषण आग, 350 से ज़्यादा मरे

  • 15 फरवरी 2012
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आग लगने के समय जेल में आठ सौ से ज़्यादा क़ैदी थे.

होंडूरास की एक जेल में भीषण आग में 350 से ज़्यादा क़ैदी मारे गए हैं.

एक सरकारी अधिकारी का कहना था कि कोमायागुआ शहर के जेल में लगी इस आग में 450 से ज़्यादा क़ैदी जेल से भाग गए.

अधिकारियों का कहना है कि कई क़ैदी या तो अपनी कोठरियों में जल गए या फिर उनकी दम घुटने से मौत हो गई.

कुछ कै़दियों ने जेल की छत तोड़कर इमारत से बाहर कूद कर जान बचाई.

अधिकारियों ने आग की वजह बिजली से जुड़ी गड़बड़ी बताया है.

आग मंगलवार देर रात को लगी और उस पर काबू पाने में एक घंटे से ज़्यादा का समय लगा.

'नर्क जैसे दृश्य'

कोमायागुआ के अग्निशमन विभाग के प्रवक्ता जोसुए गार्सिया का कहना था कि जेल में 'नर्क जैसे दृश्य' थे और फंसे हुए कै़दियों ने लपटों से बचने की कोशिश में दंगा किया.

गार्सिया का कहना था, "हम क़ैदियों को बाहर नहीं निकाल सके क्योंकि हमारे पास उनकी कोठरियों की चाबी नहीं थीं और जिन गार्ड्स के पास चाबी थीं, वे हमें नहीं मिल पाए."

कोमायागुआ में फ़ोरेंसिक सेवाओं की मुख्य अधिकारी लूसी मार्डर के मुताबिक लगभग 356 क़ैदियों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी.

उन्होंने बताया, "ज़्यादातर की शायद मौत हो गई है लेकिन हो सकता है कि कुछ जल गए हों या बच कर भागने में सफल रहे हों."

होंडूरास की राजधानी तेगुसिगाल्पा से लगभग सौ किलोमीटर उत्तर में स्थित कोमायागुआ की इस जेल में 800 से ज़्यादा कै़दी थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जानकारी पाने के लिए जेल के बाहर जमा क़ैदियों के रिश्तेदार.

अधिकारियों को डर है कि कई क़ैदी इस गड़बड़ी और उथल-पुथल में भाग गए हों.

इस बीच क़ैदियों के परिजन उनके बारे में जानकारी पाने के लिए जेल के बाहर जमा हुए.

जले हुए लोगों और घायलों का इलाज स्थानीय अस्पतालों में किया जा रहा है.

कुछ घायलों को इलाज के लिए तेगुसिगाल्पा ले जाया गया है. इनमें गंभीर रूप से जले हुए 30 लोग शामिल हैं.

अग्निशमन अधिकारियों का कहना था कि उन्हें जेल में घुसने के लिए संघर्ष करना पड़ा क्योंकि वहां गोलियां चलाई गई थीं.

होंडूरास के मीडिया में ख़बरें थीं कि आग लगने से पहले जेल में दंगा हुआ था. हालांकि जेल के प्रमुख, डेनियल ओरेलाना, ने इस बात से इंकार किया.

रॉयटर समाचार एजेंसी ने ओरेलाना के हवाले से बताया, "आग लगने के बारे में हमारे दो अनुमान हैं. एक ये कि एक क़ैदी ने गद्दे को आग लगाई और दूसरा ये कि जेल में शॉर्ट सर्किट हुआ."

एक मानवाधिकार संगठन ने बीबीसी को बताया कि होंडूरास की जेलों में आग बुझाने वाले उपकरण नहीं हैं

होंडूरास की जेलों में दुनिया में सबसे अधिक हत्या दर है. ये जेल अक्सर ज़रूरत से ज़्यादा भरी होती हैं और इनमें कई गैंग के सदस्य भी होते हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार