ईरान ने फ्रांस और ब्रिटेन को तेल आपूर्ति रोकी

  • 19 फरवरी 2012
ईरान इमेज कॉपीरइट x
Image caption ईरान की कमाई का अहम हिस्सा कच्चे तेल की आपूर्ति से आता है.

ईरान के तेल मंत्री ने कहा है कि उनके देश ने फ्रांस और ब्रिटेन को तेल आपूर्ति रोक दी है.

खबरों के मुताबिक ईरान के तेल मंत्रालय प्रवक्ता ने सरकारी वेबसाइट के हवाले से कहा कि अब ईरान “नए उपभोक्ताओं को तेल बेचेगा”.

यूरोपीय संघ के सदस्यों ने सहमति बनाई थी कि वो 1 जुलाई से ईरान से तेल का आयात रोक देगें.

ये कदम ईरान को यूरेनियम संवर्धन करने से रोकने का दबाव बनाने के लिए लिया गया था. यूरेनियम संवर्धन से नागरिक परमाणु ज़रूरतों की पूर्ति की जा सकती है और विनाशकारी हथियार भी बनाए जा सकते है.

ईरान का कहना है कि उसका परमाणु कार्यक्रम शांतिपूर्ण है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र की अतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी (आईएईईए) का दावा है कि ईरान ने कुछ ऐसे परीक्षण किए हैं जिनकी ज़रूरत परमाणु हथियार बनाने में होती है.

तेल का खेल

ईरान के तेल मंत्रालय की वेबसाइट में जारी किए गए बयान के नीचे प्रवक्ता अलि रेज़ा निकज़ाद रहबर का नाम लिखा है.

ईरानी मीडिया के कुछ अंगों ने बुधवार को कहा था कि यूरोपीय संघ के प्रतिबंध के जवाब में ईरान ने नीदरलैंड, ग्रीस, फ्रांस, पुर्तगाल, स्पेन और इटली को तेल आपूर्ति रोक दी है. हालांकि बाद में तेल मंत्रालय ने इन खबरों को खारिज कर दिया था.

पिछले महीने तय किए गए यूरोपीय संघ के प्रतिबंध को इस तरह से लागू किया जाना था ताकि ईरान पर तेल के लिए आश्रित ग्रीस, स्पेन और इटली जैसे देशों को तेल के दूसरे स्रोत खोजने का समय मिल जाए.

फिलहाल ये देश ईरान की कुल तेल आपूर्ति का 20 फीसदी हिस्सा खरीदते है, जो कि ईरानी सरकार की कमाई का अहम हिस्सा है.

हालांकि ईरान के तेल मंत्री रुस्तम क़ासेमी ने कहा है कि तेल आपूर्ति रोकने से ईरान को नुकसान नहीं पहुंचेगा.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार