अब माल्या को विदेशी एयरलाइनों का आसरा

  • 27 फरवरी 2012
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption विजय माल्या की किंगफिशर में 58 प्रतिशत हिस्सेदारी है

घाटे में डूबे किंगफिशर एयरलाइंस के अध्यक्ष विजय माल्या का कहना है कि संभावित सहायता पैकेज के लिए वे दो विदेशी एयरलाइंस कंपनियों के साथ बातचीत कर रहे हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, ब्रितानी अखबार टाइम्स को दिए साक्षात्कार में विजय माल्या ने ये बात कही है.

माल्या का कहना है कि उन्हें भारत सरकार से उस कानून में बदलाव की अस्थायी तौर पर मंजूरी मिली है जिससे भारतीय एयरलाइंस पर विदेशी मालिकाना हक पर रोक में शिथिलता मिलेगी.

'निवेश के लिए तैयार'

नाम लिए बिना माल्या ने कहा कि विदेशी एयरलाइंस इस कानून में बदलाव की घोषणा होने के साथ ही किंगफिशर में निवेश के लिए तैयार हैं.

संबंधित कानून में बदलाव होने पर विदेशी एयरलाइंस भारतीय एयरलाइंस कंपिनयों में पहली बार 49 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीद सकेंगी.

टाइम्स अखबार ने एक वित्तीय सूत्र के हवाले से कहा है कि जिन दो विदेशी एयरलाइंस से माल्या बात कर रहे हैं, उनमें से एक अंतरराष्ट्रीय एयरलाइन समूह भी है जो ब्रिटिश एयरवेज और इबेरिया का मालिक है.

टाइम्स का ये भी कहना है कि आबूधाबी की एतिहाद एयरवेज ने किंगफिशर के साथ करार की संभावनाओं पर चर्चा की है.

मामले से जुड़े अन्य पक्षों से इस बारे में फिलहाल कोई टिप्पणी नहीं मिली है.

संबंधित समाचार