इतिहास के पन्नों में: तीन मार्च

तुर्की एयरलाइंस का डीसी10 विमान दुर्घटना का शिकार हुआ
Image caption तुर्की एयरलाइंस का डीसी10 विमान दुर्घटना का शिकार हुआ

इतिहास के पन्नों में तीन मार्च के नाम दो अहम घटनाएँ हैं-

1974- तुर्की विमान दुर्घटना में 345 की मौत

तुर्की एयरलाइंस का डीसी10 विमान पेरिस के निकट दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसकी वजह से विमान में सवार सभी 345 लोगों की मौत हो गई.

विमान अंकारा से पेरिस होते हुए लंदन जा रहा था. मगर ग्रीनिच मान समय के अनुसार 1235 पर उड़ान भरने के कुछ ही मिनटों बाद विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया.

मारे गए लोगों में 200 यात्री थे और उनमें से अधिकतर ब्रितानी नागरिक थे.

विमान जंगल में गिरा मगर नीचे खड़े किसी व्यक्ति की उस हादसे में मौत नहीं हुई.

पूरे इलाक़े में मलबा बिखर गया और कपड़ों के चिथड़े बिखरे थे.

रेड क्रॉस के सैकड़ों बचावकर्मी दुर्घटना के आधे घंटे के भीतर वहाँ पहुँच गए मगर बचाने के लिए वहाँ कोई था ही नहीं.

वहाँ से सैनिकों ने शवों को सेना की गाड़ियों में डाला और रातों रात पेरिस के चिकित्सा केंद्र ले गए.

पास के गाँव के प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उन्होंने एक विस्फोट सुना और विमान के जंगल में गिरने से पहले उसमें से लपटें निकलती देखीं.

कुछ शव गाँव के पास भी गिरे मिले और वो जगह दुर्घटनास्थल से लगभग छह मील दूर थी यानी विमान में शायद हवा में ही विस्फोट हो गया था.

2009- श्रीलंकाई क्रिकेटर लाहौर में बने निशाना

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के लाहौर में मैच खेलने जा रही श्रीलंकाई क्रिकेट टीम की बस पर हथियारबंद लोगों ने गोलियाँ चला दीं.

बस के साथ चल रहे छह पुलिसकर्मी और बस का ड्राइवर इस घटना में मारे गए जबकि सात क्रिकेटर और सहायक कोच घायल हुए.

पाकिस्तानी अधिकारियों ने कहा कि हमले में लगभग 12 हथियारबंद लोग शामिल थे.

उससे पहले भी कई अंतरराष्ट्रीय टीमें सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं के चलते पाकिस्तान का दौरा रद्द कर रही थीं.

मुंबई हमलों के बाद इसी आधार पर जब भारत ने पाकिस्तान का दौरा करने से इनकार किया तो पाकिस्तान ने श्रीलंका को आमंत्रित किया था.

श्रीलंकाई विकेटकीपर कुमार संगकारा ने दुर्घटना के बाद ऑस्ट्रेलियाई रेडियो एबीसी से बात करते हुए कहा था कि उनकी ज़िंदगी बस ड्राइवर के चलते बची.

उन्होंने कहा, "हमारा ड्राइवर बिल्कुल सीधे बस चलाता चला गया और मैदान पहुँचा और शायद उसी वजह से हमारी जान बची."

लाहौर में अधिकारियों ने बताया कि तिलन समरवीरा और तरंगा परनाविताना को अस्पताल ले जाना पड़ा.

पुलिस के अनुसार हमलावरों में से कोई नहीं पकड़ा गया.

श्रीलंकाई राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने हमले की निंदा की तो पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने तुरंत जाँच का आदेश दिया.

ये हमला दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन के खेल से पहले हुआ था जिसके बाद मैच रद्द कर दिया गया.

संबंधित समाचार