'उत्तरकोरिया को ओबामा की चेतावनी

ओबामा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ली म्यूंग बाक के साथ

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अगर उत्तर-कोरिया अपने पूर्व नियोजित कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए अगले महीने परमाणु मिसाइल का प्रक्षेपण करता है तो उसे और प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ली-म्यूंग बाक के साथ सोल में एक मंच पर बोलते हुए बराक ओबामा ने कहा कि अगर उत्तर कोरिया इस रॉकेट का प्रक्षेपण करता है तो उसे अब तक खाद्य के क्षेत्र में दी जा रही मदद को जारी रखना मुश्किल होगा.

उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंग्योंग से आ रही खबरों के अनुसार इस रॉकेट को लॉचिंग साइट पर ले जाया गया है. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि उत्तर कोरिया को अपने इस उकसाने और धमकी देने वाले वाले व्यवहार से कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है.

ओबामा ने ये भी कहा कि उत्तर कोरिया में इस समय कौन सरकार चला रहा है ये कहना मुश्किल है. इस मसले पर चीन के रुख़ की भी उन्होंने निंदा करते हुए उसे असरहीन बताया है.

ओबामा परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में भाग लेने दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल पहुंचे हुए हैं.

उत्तर कोरिया को खरी-खरी

दुनिया के दोनों बड़े नेताओं ने एक स्वर में कहा है कि अगर उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रमों को नहीं रोकता है तो वो दुनिया में अलग-थलग पड़ जाएगा.

ओबामा ने आगे कहा, '' उत्तर कोरिया को अपनी ज़िम्मेदारियों के बारे में अच्छी तरह से पता है और उन्हें इन्हें पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए और इस मसले पर वॉशिंगटन और सोल पूरी तरह से एक साथ हैं.''

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ली-म्यूंग बाक का कहना था,''हम दोनों ही नेता इस बात पर सहमत हैं कि अगर उत्तर कोरिया किसी भी तरह से कोई उकसाने वाला कदम उठाता है तो दोनों देश इससे सख्त़ी से निपटेंगे.''

हालांकि ली-म्यूंग ने ये भी कहा कि, अंतरराष्ट्रीय समुदाय उत्तर कोरिया के लोगों का जीवन स्तर सुधारने के लिए उनकी हर संभव मदद करने को तैयार है अगर उनका देश शांति के रास्ते पर चलने को तैयार होता है.

उत्तर कोरिया 12-16 अप्रैल के बीच किसी भी दिन अपने परमाणु मिसाईल का प्रक्षेपण कर सकता है.

उनकी ये योजना देश के पूर्व नेता किम-संग द्वितीय की सौवीं सालगिरह के मौके पर किया गया है.

रविवार को दक्षिण कोरिया के सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि, उत्तर कोरिया ने प्रक्षेपण के लिए तैयार किए गए रॉकेट के मुख्य हिस्से को लांचिंग साइट में स्थानांतरित कर दिया है.

मनमोहन भी पहुंचे

भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल पहुंच गए हैं. सम्मेलन से पहले उन्होंने कहा है कि 'परमाणु आतंकवाद चिंता का विषय है.'

भारतीय प्रधानमंत्री ने ये बयान दक्षिण कोरिया के दौरे पर जाने से पहले दिल्ली में दिया था. दो-दिनों का सम्मेलन औपचारिक तौर पर सोमवार से शुरु होगा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ओबामा परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में भाग लेने सोल पहुंच गए हैं.

सम्मेलन के दौरान परमाणु सुरक्षा खासतौर पर परमाणु 'आतंकवाद' पर चर्चा की जाएगी. इसमें भाग लेने के लिए अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा सहित 53 मुल्कों के नेता इकट्ठा हो रहे हैं

सम्मेलन में परमाणु उपकरणों और सामग्री के चरमपंथी तत्वों के पास पहुंचने और उसके अवैध लेन-देन को रोकने के उपायों पर भी चर्चा होगी.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी भी इस बैठक में शामिल होंगे जिस दौरान उनकी मुलाकात बराक ओबामा से होनी है.

संबंधित समाचार