सीरिया के विद्रोहियों को मिलेगा वेतन

  • 1 अप्रैल 2012
Image caption तुर्की में सीरिया के दोस्त नाम से सम्मेलन हुआ जिसमें 70 से अधिक देशों ने हिस्सा लिया

सीरिया के विपक्षी दल सीरिया नेशनल काउंसिल ने घोषणा की है कि राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकारी सेनाओं के खिलाफ लड़ रहे विद्रोहियों को महीने में वेतन दिया जाएगा.

तुर्की में हुए एक सम्मेलन के बाद विपक्ष का कहना था कि उन सैनिकों को भी वेतन दिया जाएगा जो सीरिया की सेना छोड़कर विद्रोहियों का साथ देंगे.

तुर्की में ‘सीरियाई जनता के दोस्त’ नाम से हुए सम्मेलन में आए प्रतिनिधियों ने बताया कि खाड़ी देश के कई धनी देश विपक्षी दल को लाखों डॉलर मुहैय्या कराएंगे जिससे विद्रोहियों को वेतन दिया जा सकेगा.

इस बैठक में सीरिया नेशनल काउंसिल को सीरियाई लोगों का ‘वैध प्रतिनिधि’ माना गया है.

हालांकि सीरिया की सरकार ने तुर्की के सम्मेलन को ‘सीरिया के दुश्मनों ’ की बैठक करार दिया. इस सम्मेलन में पश्चिम और अरब देशों के 70 से अधिक विदेश मंत्री हिस्सा ले रहे हैं लेकिन सीरिया को प्रभावित कर सकने वाले महत्वपूर्ण देश चीन, रुस और ईरान इसमें हिस्सा नहीं ले रहे हैं.

सम्मेलन के बाद हुई प्रेस वार्ता में तुर्की के विदेश मंत्री अहमद दावूतोगलू ने सीरिया को चेतावनी दी है कि कोफी अन्ना के नेतृत्व में जो छह सूत्री शांति योजना दी गई है उस पर सीरिया को जल्दी फैसला करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय राष्ट्रपति असद को एक और मौके का गलत इस्तेमाल नहीं करने देगा.

इस प्रेस वार्ता में मौजूद सीरिया राष्ट्रीय काउंसिल के अध्यक्ष बुरहान घालीवुन ने कहा, ‘‘ काउंसिल सभी अधिकारियों, सैनिकों और फ्री सीरियन आर्मी के अन्य सदस्यों के वेतन की ज़िम्मेदारी लेता है.’’

इंस्ताबूल में मौजूद बीबीसी के जोनाथन हेड का कहना है कि विद्रोहियों को वेतन देने का फैसला बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे साफ है कि विपक्ष ने विद्रोहियों की भूमिका को मुख्य माना है.

सम्मेलन में सऊदी अरब जैसे देशों ने फ्री सीरियन आर्मी के विद्रोहियों को हथियार देने की मांग भी की.

संबंधित समाचार