अंधरे से रोशनी की ओर जाता एक द्वीप

  • 19 अप्रैल 2012
स्वालबार्ड इमेज कॉपीरइट AP
Image caption स्वालबार्ड में छुपे गैस और तेल के नए भंडारों के मिलने की उम्मीदें बढ़ रही हैं

नॉर्वे के आर्कटिक इलाके में साल के ज्यादातर दिन अंधेरे और ठंड में गुज़रते हैं, लेकिन स्वालबार्ड के द्वीप पर तेजी से समृद्धि आ रही है.

पिघलती बर्फ को चीरकर सामने आ रही है एक ऐसी जमीन, जहाँ अंतरराष्ट्रीय राजनीतिज्ञ, पर्यटक और व्यापारी बड़ी संख्या में खिंचे चले आ रहे हैं.

अट्ठारवीं शताब्दी में मौत की सजा पाने वाले डच और डेनिश कैदियों को यहाँ व्हेल मछली का शिकार करने वाली नावों के देखभाल करने के लिए रखा जाता था, लेकिन आज यहाँ के हवाईअड्डे पर्यटकों से भरे रहते हैं. वो यहाँ पर चारों ओर जमी बर्फ से ढकी सुंदरता को देखना चाहते हैं.

इस द्वीप की आबादी करीब 2,000 के आसपास है. एक जमाने में ठंड से बेजान स्वालबार्ड द्वीप में जान फूंकने का श्रेय जाता है यहाँ पर विश्व तापमान के बढ़ने और पोलर तकनीक को समझने के लिए बने अनुसंधान केंद्रों को.

चीन से लेकर दक्षिण कोरिया से लेकर अमरीका ने यहाँ अपने अनुसंधान केंद्र खोले हैं. जैसे-जैसे बर्फ पिघल रही है और जहाज आने-जाने के नए रास्ते खुल रहे हैं, इलाके में छुपे गैस और तेल के नए भंडारों के मिलने की उम्मीदें बढ़ रही हैं.

इस दौड़ में यूरोपीय संघ भी पीछे नहीं रहना चाहता. संघ की प्रतिनिधि बैरोनेस कैथरीन एश्टन का यहाँ आना यही दिखाता है.

खूबसूरती

वो कहती हैं, “ये बेहद खूबसूरत है. आप यहाँ पर आर्थिक गतिविधि देखते हैं, जिनकी आपने कल्पना भी नहीं की होगी. आर्थिक गतिविधि और यहाँ के कोमल माहौल में सामंजस्य रखना महत्वपूर्ण है.”

उन्होंने एक ऐसा गुब्बारा छोड़ा जिसका काम है आर्कटिक वायुमंडल में ओजोन के स्तर को नापना.

राजनीतिज्ञ, राजा-महाराजा, ख्यातिप्राप्त व्यक्ति यहाँ के स्थानीय सवारियों का मजा लेने को आतुर रहते हैं. इसी कारण शायद यहाँ पर रहने और काम करने वाले वैज्ञानिकों को अपने काम के राजनीतिक महत्व का भी अहसास रहता है.

नॉर्वे के विदेश मंत्री जोनास गार स्टोर इस इलाके को विदेश नीति की सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता मानते हैं. उन्हें उम्मीद है कि वो विभिन्न अंतरराष्ट्रीय शक्तियों के बीच संतुलन स्थापित कर पाएंगे.

फिलहाल, स्वैलबार्ड में सिर्फ पोलर बीयर से सुरक्षा के लिए बंदूकों की अनुमति है.

महीनों की अंधेरी रातों के बाद जैसे-जैसे स्वेलबार्ड में सूर्य अपनी उपस्थिति जता रहा है, उसी तेज़ी से ये द्वीपों दुनिया के मानचित्र पर अपना स्थान बना रहे हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार