सीरिया में रोके नहीं रुक रही है हिंसा

  • 20 अप्रैल 2012
बान की मून इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption संयुक्त राष्ट्र के महासचिव सीरिया में जारी हिंसा से "व्यथित" हैं

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने कहा है कि सीरिया में हालात 'अत्यधिक अस्थिर' बने हुए हैं.

संयुक्त राष्ट्र और सीरिया की सरकार के बीच एक शुरुआती समझौता हो चुका है जिसमें वहां पर्यवेक्षकों की तैनाती को मंजूरी दी गई है. ये पर्यवेक्षक सीरिया में लागू संघर्षविराम पर नजर रखेंगे.

लेकिन बान ने कहा कि वह सीरिया में जारी हिंसा के सबूतों से 'व्यथित' हैं.

अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि सीरिया को हथियारों की आपूर्ति पर वैश्विक रोक लगाई जाए और अगर वहां की सरकार संघर्षविराम को तोड़ना जारी रखती है तो उसके खिलाफ और प्रतिबंध लगाए जाएं.

गृह युद्ध के रास्ते पर

उत्तरी सीरिया में बीबीसी संवाददाता इयान पैनेल का कहना है कि पिछले हफ्ते उन्होंने कई जगहों पर संघर्षविराम का उल्लंघन देखा है.

हमारे संवाददाता के मुताबिक उन्होंने जाबेल अल-जाविया इलाके में हेलीकॉप्टरों को गावों पर गोलियां बरसाते देखा और इस घटना में कम से कम दो लोग मारे गए.

‘फ्रेंड्स ऑफ सीरिया’ समूह के विदेश मंत्रियों की गुरुवार को पैरिस में बैठक हुई.

उन्होंने इस बात पर सहमति जताई कि संघर्षविराम और सयुक्त राष्ट्र व अरब लीग के दूत कोफी अन्नान की छह सूत्रीय शांति योजना से सीरिया में गृह युद्ध से बचा जा सकता है.

अमरीकी विदेश मंत्री क्लिंटन ने कहा कि अगर सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार पर्यवेक्षकों को अपने यहां आने से रोकती है तो उसके खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रतिबंधों का प्रस्ताव लाया जाए.

क्लिंटन ने कहा कि रूस के विदेश मंत्री सरेगेई लावरोव से भी उनकी बात हुई है. वह भी मानते हैं कि सीरिया में स्थिति 'बिगड़ रही है'.

इमेज कॉपीरइट
Image caption सीरिया पिछले एक साल से विद्रोह और हिंसा से जूझ रहा है

वहीं फ्रांस के विदेश मंत्री एलेन जुप्पे का कहना है कि सीरिया में सुयंक्त राष्ट्र समर्थित शांति योजना नाकाम हो गई है और सीरिया गृह युद्ध के रास्ते पर जा रहा है.

हिंसा जारी

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव ने बताया कि सीरिया में पर्यवेक्षकों की संख्या बढ़ा कर 300 कर दी गई है जो अगले तीन महीनों के दौरान वहां तैनात रहेंगे.

उधर 'सीरिया ऑब्जरवेटरी ऑफ ह्यूमन राइट्स' संस्था के मुताबिक गुरुवार को भी सीरिया में हिंसा जारी रही और इसमें तीन लोगों के मारे जाने की खबर है.

बीबीसी संवाददताता जिम मुइर का कहना है कि गुरुवार को सीरिया के तीसरे सबसे बड़े शहर और विद्रोहियों के गढ़ माने जाने वाले होम्स शहर के कुछ हिस्सों में सरकारी बलों की गोलाबारी जारी रही.

सीरिया में पिछले एक साल से राष्ट्रपति असद के खिलाफ विद्रोह हो रहा है जिसमें अब तक हजारों लोग मारे गए हैं.

राष्ट्रपति असद की ओर से राजनीतिक सुधार के कई आश्वासन दिए गए हैं लेकिन वे इन पर अमल नहीं कर सके हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार