सीरिया पर सुरक्षा परिषद में अहम् मतदान

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सुरक्षा परिषद अधिक पर्यवेक्षकों को सीरिया भेजे जाने के प्रस्तावों पर आज मतदान करेगी.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा के बनाए हुए एक प्रारूप के अनुसार सीरिया में युद्ध विराम की निगरानी के लिए 300 पर्यवेक्षक भेजा जाना प्रस्तावित है.

रूस के बनाए हुए एक प्रस्ताव के मसौदे के अनुसार पर्यवेक्षकों को तत्काल भेजा जाना प्रस्तावित है लेकिन ब्रिटेन फ़्रांस और जर्मनी चाहते हैं कि पर्यवेक्षक तब तक ना भेजे जाएं जब तक सीरिया नागरिक इलाकों से अपने हथियार और सैनिकों को वापस नहीं बुला लेता.

सीरिया में इस समय संयुक्त राष्ट्र के भेजे हुए चंद पर्यवेक्षक काम कर रहे हैं.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अधिक पर्यवेक्षकों को सीरिया भेजे जाने के प्रस्तावों पर शनिवार को मतदान करेगी.

युद्धविराम का उल्लंघन

सीरिया से आ रही ख़बरों के मुताबिक यूं तो वहां हिंसा में कुछ कमी हुई है लेकिन युद्धविराम के उल्लंघन की खबरें भी स्वतंत्र कार्यकर्ताओं और पत्रकारों के ज़रिये सीरिया से लगातार आ रहीं हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार शुक्रवार को हुई हिंसा में कम से कम 23 लोग मारे गए हैं. मारे जाने वालों में कम से कम 10 लोग सेना को निशाने पर रख कर सड़कों के किनारे लगाए गए बमों से मारे गए हैं बाकी होम्स शहर में सीरियाई सेना के बमबारी में मारे गए हैं.

संयुक्त राष्ट्र में फ़्रांस के राजदूत ज़ेरार राऊ का कहना है कि शुक्रवार देर शाम तय हुए मसौदे पर वोटिंग शनिवार को होगी.

यूरोपीय देशों के तैयार किए हुए मसौदे में युद्धविराम को ना मानने पर सीरिया पर गैर फ़ौजी प्रतिबंध लगाने की बात प्रस्तावित है जबकि रूस के द्वारा प्रस्तावित मसौदे में ऐसा कहीं नहीं है.

इसके पहले अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने अपील की थी कि अगर सीरिया युद्धविराम का उल्लंघन जारी रखता है तो उस पर और प्रतिबंध लगाने के साथ उसे हथियारों और गोला बारूद की आपूर्ती रोक देना चाहिए.

सहायता संकट

इसके इतर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय सीरिया में मानवीय सहायता पहुंचाने के रास्ते भी ढूंढ रहा है. शुक्रवार को जेनेवा में हुई भिन्न देशों के कूटनयिकों की एक बैठक में सीरिया के भीतर मुश्किल में फंसे दस लाख लोगों को 18 करोड़ डॉलर की राशी के बराबर दवाएं और खाना पहुंचाने पर चर्चा हुई.

इस योजना को सीरिया की सरकार की अनुमति चाहिए क्योंकि बिना उसके सहायता कर्मी सीरिया में नहीं घुस सकते. संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों की सह-महासचिव वेलेरी एमॉस ने 'अत्याधिक चिंता' जताते हुए कहा है कि सीरिया में ज़रूरतमंद लोगों तक सहायता नहीं पहुँच रही है.

पिछले सप्ताह संयुक्तराष्ट्र के महासचिव बान की मून ने कहा था कि यूं तो तो सीरिया के सरकार ने युद्धविराम की तय शर्तों का पालन नहीं किया है लेकिन अब भी वहां हालात में बेहतरी की संभावना है.

इसके पहले 'सीरिया के मित्र' नाम के एक संगठन में शामिल देशों के विदेश मंत्रियों ने कहा था कि संयुक्तराष्ट्र के सीरिया के लिए विशेष दूत कोफी अन्नान के सुझाए हुए युद्धविराम के खाके पर चलना ही सीरिया में शांति का एकमात्र रास्ता है.

संबंधित समाचार