'ऐस्प्रिन से अंतड़ियों का कैंसर रोकने में मदद'

ऐस्परिन इमेज कॉपीरइट spl
Image caption शोधकर्ताओं के मुताबिक रोज ऐस्परिन खाने वालों में कैंसर से मौत की संभावना में 30 प्रतिशत की कमी हुई

विशेषज्ञों का मानना है कि अंतड़ियों के कैंसर से पीड़ित अगर रोज एस्प्रिन खाते हैं तो बीमारी से मरने की संभावना में एक तिहाई से ज्यादा कमी होती है.

ब्रिटिश जर्नल ऑफ़ कैंसर में छपे शोध में हॉलैंड के करीब 4,500 ऐसे मरीज़ों की हालत देखने के बाद ये बात पता चली है.

सभी पीड़ित हर दिन एस्प्रिन की 80 मिलीग्राम या फिर कम डोज की दवा लेते थे. दिल की बीमारी से पीड़ितों को पहले से ही ऐसा करने की हिदायत थी.

लेकिन विशेषज्ञ ये भी कहते हैं कि अंतड़ियों के कैंसर पीड़ितों को नियमित एस्प्रिन देना अभी जल्दबाज़ी होगी.

पहले भी ऐसे कई प्रमाण मिल चुके हैं जिनके मुताबिक एस्प्रिन से कई तरह के कैंसर को विकसित होने से रोका जा सकता है. और हाल ही में शोधों से ये भी पता चला है कि एस्प्रिन से कैंसर का इलाज संभव है, ये कहें कि कैंसर को फैलने से रोका जा सकता है.

लेकिन इस दवा के कई दुष्प्रभावों के मामले भी सामने आए हैं, हालाँकि ऐसे मामलों की संख्या बहुत कम है.

निष्कर्ष

करीब एक दशक तक चले इस शोध के मुताबिक कैंसर से पीड़ितों में एस्प्रिन खाने के बाद अंतड़ियों के कैंसर में 23 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई.

रोज एस्प्रिन खाने वालों में कैंसर से मौत की संभावना में 30 प्रतिशत की कमी हुई.

लीडिन युनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर के डॉक्टर हेरिट-जैन लीफ़र्स कहते हैं, “हमारे शोध से ऐसे सुबूत मिले हैं कि एस्प्रिन से कैंसर को रोकने में मदद तो मिलती ही है, इसके अलावा इससे कैंसर को फैलने से भी रोका जा सकता है.”

उनके मुताबिक एस्प्रिन को कीमोथेरपी जैसे दूसरे इलाज का विकल्प के तौर पर नहीं देखा जा सकता, लेकिन इसे इलाज के साथ-साथ अतिरिक्त इलाज के तौर पर ज़रूर देखा जा सकता है.

ब्रिटेन की सारा लिडनेस के मुताबिक इस नए शोध से एस्प्रिन के फायदों के बारे में और सुबूत मिलते हैं लेकिन अभी इस स्थिति पर नहीं पहुँचा जा सका है जहाँ लोगों को कैंसर की संभावनाओं को कम करने के लिए एस्प्रिन लेने की सलाह दी जा सके क्योंकि इस दवाई के दुष्प्रभावों के बारे में कई सवालों के जवाब देने हैं.

वो कहती हैं कि कैंसर की संभावनाओं को कम करने के लिए एस्प्रिन खाने से पहले लोगों को डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि लोगों को ये पता होना ज़रूरी है कि एस्प्रिन लेने के कारण कीमोथेरपी या सर्जरी से पहले जटिलता बढ़ सकती है.

संबंधित समाचार