राष्ट्रपति जी, मेरा जीवन आपके हाथ में: अगवा अमरीकी

वारन वेनस्टाईन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption वारन वेनस्टाईन को पाकिस्तान के लाहौर शहर में पिछले साल अगस्त में अगवा किया गया था

लाहौर से अगवा किए गए एक अमरीकी के अल कायदा द्वारा जारी एक वीडियो में उन्हें अमरीकी राष्ट्रपति से निवेदन करते दिखाया गया है. वे निवेदन कर रहे हैं कि उनकी जिंदगी इस बात पर निर्भर करती है कि ओबामा चरमपंथियों की मांग स्वीकार करते हैं या नहीं.

उधर यमन में एक हवाई हमले में अल कायदा के उस नेता की मौत हो गई है जिसकी साल 2000 में अमरीकी जहाज यूएसएस कोल पर धमाका करने के मामले में तलाश थी. यमन के सुरक्षाकर्मी और अमरीकी सैनिक वहाँ संयुक्त तौर पर संदिग्ध अल कायदा लड़ाकों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं.

अल कायदा के बयानों पर निगरानी करने वाली संस्था एसआईटीई मौनिटरिंग सर्विस ने पिछले साल अगस्त में अगवा किए गए वारन वेनस्टाईन के हवाले से कहा है कि उन्होंने ओबामा से चरमपंथियों की मांगों को मानने की अपील की है.

रविवार को इस्लामी वेबसाइटों पर जारी इस वीडियो में उन्होंने ये कहते दिखाया गया है - ''राष्ट्रपति जी, मेरी जिंदगी आपके हाथ में है. अगर आप इन मांगों को स्वीकार करते हैं तो मैं जिंदा रहूंगा, अगर नहीं, तो मुझे मार दिया जाएगा."

वारन को जीई एसोसिएट्स का पाकिस्तान निदेशक बताया गया है जो देश के व्यवसायों और सरकारी क्षेत्रों को सलाह उपलब्ध कराता है.

अल कायदा के नेता अयमान अल ज्वाहिरी ने दिंसंबर में रिकार्ड किए गए एक ऑडियो में कहा था कि वेनस्टाईन के अपहरण के लिए वे जिम्मेदार हैं और अमरीका की हिरासत में उनके संगठन और तालिबान से जुड़े सभी लड़ाकों को रिहा किया जाना चाहिए.

उन्होंने पाकिस्तान, अफगानिस्तान, यमन, सोमालिया और गजा में अमरीकी अभियान पर रोक लगाने की भी मांग की थी.

मारे गए अल कायदा नेता

इमेज कॉपीरइट na
Image caption फाहद अल-कूसो पर 25 करोड़ रुएए का इनाम था

उधर यमन में अल कायदा संबंधित एक घटना में ड्रोन से किए गए मिसाइली हमले में अल कायदा के कबायली नेता फाहद अल-कूसो की मौत हो गई.

अमरीका ने उनकी गिरफ्तारी कराने की सूचना देने वाले के लिए 50 लाख डॉलर का इनाम रखा था.

साल 2000 में अमरीकी जहाज यूएसएस कोल पर धमाका करने के मामले में उनकी तलाश थी.

एक अमरीकी अधिकारी ने इस कदम का स्वागत करते हुए उन्हें 'वरिष्ठ आंतकवादी' बताया और समाचार एजेंसी एएफपी से बातचीत करते हुए आरोप लगाया कि वे अमरीका और यमन में और हमले करने की योजना बना रहे थे.

संबंधित समाचार