भारत के बढ़ते प्रभाव से चिंतित पाकिस्तान-पेंटागन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अफ़गानिस्तान में भारत के बढ़ते प्रभाव से पाकिस्तान काफी चिंतित है

अमरीकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन का कहना है कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान में भारत के बढ़ते प्रभाव से चिंतित है और इसी कारण वो चरमपंथियों को बढ़ावा दे रहा है ताकि अफगानिस्तान में अपना प्रभाव बरकरार रख सके.

पेंटागन ने अमरीकी कांग्रेस को दी गई रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान चुनिंदा रुप से चरमपंथियों के खिलाफ कार्रवाई करता है और चरमपंथियों को सुरक्षित जगह उपलब्ध करता है और उनसे निपटना नहीं चाहता.

पेंटागन का कहना था कि पाकिस्तान को अमरीका पर भरोसा नहीं है, दोनों देशों के बीच लंबे समय से तनाव है और अलग अलग सामरिक हितों के कारण दोनों देशों के बीच सच्चे अर्थों में सहयोग हो पाना मुश्किल दिखता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि अफगानिस्तान के अधिकारियों की हत्या और अफगानिस्तान के सैनिकों पर हमले में चरमपंथियों को समर्थन के कारण अफगानिस्तान में राजनीतिक स्थायित्व नहीं आ पा रहा है.

पेंटागन का कहना था कि पाकिस्तान चाहता है कि अफगानिस्तान एक सुरक्षित और स्थायी देश हो लेकिन वहां पश्तूनों की सरकार हो और भारत का प्रभाव बिल्कुल सीमित हो.

रिपोर्ट के अनुसार इन उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए पाकिस्तान ने अफगानिस्तान से लगी सीमा पर चरमपंथी गतिविधियों को पनपने दिया है और हक्कानी तालेबान नेटवर्क और उत्तरी वजीरिस्तान एजेंसियों को समर्थन देता रहा है.

इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान को लगता है कि अगर वो ऐसा नहीं करेगा तो भारत के प्रभाव वाले अफगानिस्तान के साथ सीमा पर वो अकेला हो जाएगा.

पेंटागन के अनुसार अफगानिस्तान में शांति और सौहार्द्र लाने में पाकिस्तान मुख्य भूमिका निभाना चाहता है ताकि वो भारत का प्रभाव कम कर सके.

संबंधित समाचार