नक्सलियों ने पहले भी किए हैं अपहरण

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption इटली के इस पर्यटक का भी अपहरण हुआ था.

नक्सली हमेशा से ही मुख्य रूप से सत्ताधारी पार्टी के नेताओं और वरिष्ठ अधिकारियों को निशाना बनाते रहे हैं.

लेकिन एक बार तो आंध्र प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के उपर भी नक्सली हमले हुए थे.

पश्चिम बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्या के उपर भी वर्ष 2008 में नक्सली हमले हुए थे. उनके साथ तत्कालीन इस्पात मंत्री राम विलास पासवान भी थे. वे सलबोनी में एक स्टील फैक्ट्री का उद्धाटन करने जा रहे थे.

लेकिन राजनीतिक रूप से सबसे बड़ी घटना उस समय हुई जब मध्य प्रदेश में नक्सलियों ने वहां के परिवहन मंत्री लिखिमराम कावड़े का 16 दिसंबर 1999 को अपहरण करने के बाद उनकी हत्या कर दी थी.

उड़ीसा में पर्यटक-विधायक

इसके अलावा हाल-फिलहाल उड़ीसा में इटली के दो पर्यटक बोसुस्को पाउलो और क्लॉडियो कोलेंजेलो का माओवादियों ने अपहरण कर लिया था. इटली के दोंनो पर्यटक लंबे समय से उड़ीसा में रह रहे थे. उनका कंधमाल जिले से अपहरण कर लिया गया था.

जब इटली के दोनों पर्यटक माओवादियों के कब्जे में ही थे, उसी दौरान माओवादियों ने उड़ीसा की सत्ताधारी बीजू जनता दल के विधायक झिना हिकाका का अपहरण कर लिया था.

इटली के दोनों अपहृत पर्यटकों में से एक को पहले छोड़ दिया गया जबकि दूसरे पर्यटक को बाद में छोड़ दिया गया. बीजू जनता दल के विधायक झिना हिकाका को भी 33 दिनों के बाद छोड़ा गया.

कई और आईएएस

वर्ष 2011 में माओवादियों ने उड़ीसा में मलकानगिरी के कलक्टर आरवी कृष्णा का भी अपहरण कर लिया था.

वर्ष 2005 बैच के आरवी कृष्णा का अपहरण मई 2011 को उस समय किया गया था, जब वे विकास कार्यों की समीक्षा के लिए माओवाद से प्रभावित क्षेत्र में गए थे.

नक्सलियों ने बहुत पहले आंध्र प्रदेश में 1987 में 11 सरकारी अधिकारियों का अपहरण कर लिया था, जिनमें सात आईएएस अधिकारी थे.

अपहृत लोगों में तत्कालीन सामाजिक जन कल्याण सचिव एसआर शंकरन भी शामिल थे. सभी पदाधिकारी पूर्वी गोदावरी जिले में आदिवासी छात्रावास का निरीक्षण करने गए थे. उन सभी लोगों को 16 दिनों के बाद छोड़ा गया था.

आंध्र प्रदेश में ही नक्सलियों ने 1991 में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता पी शिवशंकर के विधायक बेटे पी सुधीर कुमार का भी अपहरण कर लिया था.

जबकि 1993 में विशाखापट्टनम जिला के कांग्रेसी विधायक पी बालाराजू का अपहरण कर लिया गया था, जिन्हें 23 दिनों के बाद छोड़ा गया था.

संबंधित समाचार