अमरीका: उम्मीद है कि चेन जल्द ही चीन छोड़ सकेंगे

  • 5 मई 2012
चेन ग्वांगचेंग और उनका परिवार (फाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चेन का कहना है कि चीन में उनको और उनके परिवार को खतरा है.

अमरीका ने कहा है कि उसे उम्मीद है कि चीन के असंतुष्ट नेता चेन ग्वांगचेंग जल्द ही चीन छोड़कर अमरीका जा सकेंगे.

अमरीकी विदेश विभाग के अनुसार चेन ग्वांगचेंग को एक अमरीकी विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा के लिए फेलोशिप ऑफर दी गई है जिसके जरिए वे अपनी पत्नी और बच्चों को भी अमरीका ले जा सकेंगे.

इस मुद्दे के कारण चीन और अमरीका के बीच पैदा हुए तनाव को खत्म करने की दिशा में इससे पहले चीन ने कहा था कि चेन विदेश में जा कर पढ़ाई करने के लिए आवेदन कर सकते हैं.

चीनी अधिकारियों के जरिए नजरबंद किए गए चेन पिछले महीने अपनी कैद से भागने में सफल हो गए थे और वे पूरे छह दिन बीजिंग स्थित अमरीकी दूतावास में रहे थे. बाद में चीनी अधिकारियों के जरिए उनकी सुरक्षा का आश्वासन दिए जाने के बाद वो अमरीकी दूतावास से बाहर आ गए थे.

चेन का कहना है कि वे अपने परिवार के साथ अमरीका जाना चाहते हैं.

फिलहाल बीजिंग में चीन और अमरीका के बीच हो रही उच्च स्तरीय बातचीत में भी ये मुद्दा छाया रहा.

अमरीकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता विक्टोरिया न्यूलैंड का कहना था, ''अमरीका को आशा है कि चीनी सरकार चेन ग्वांगचेंग और उनके परिवार को विदेश जाने के लिए जरूरी कागजात जल्द मुहैया करा देगी. उसके बाद अमरीकी सरकार उन्हें प्राथमिकता देकर वीजा जारी कर देगी.''

इससे पहले चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिऊ वायमिन के हवाले से कहा था, “अगर वो चीनी नागरिक के तौर पर विदेश में पढ़ना चाहते हैं तो वो ऐसा कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें बाकी दूसरे चीनी नागरिकों की तरह सामान्य माध्यमों से संबंधित विभागों की संबंधित प्रक्रियाओं को पूरा करना होगा.”

बयान का स्वागत

बीजिंग के दौरे पर गई अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ''चीन के बयान से मुझे काफी हिम्मत हुई है. वो( चेन ग्वांगचेंग) जैसा अपना भविष्य चाहते हैं उन्हें हासिल करने के लिए उनकी मदद करने के मामले में काफी प्रगति हुई है.''

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इसी अस्पताल में भर्ती हैं चेन. कुछ मीडियाकर्मी उन्हें देखने के लिए जबर्दस्ती अंदर घुस गए थे.

हिलेरी ने ये भी कहा कि बीजिंग में अमरीकी राजदूत ने शुक्रवार को चेन से फोन पर बातचीत की थी और दूतावास का एक डॉक्टर चेन को देखने भी गया था.

चेन फिलहाल बीजिंग में एक अस्पताल में भर्ती हैं और चीनी पुलिस ने चारों तरफ से अस्पताल को सील कर रखा है.

अमरीकी दूतावास से बाहर आने के बाद चेन ने समाचार एजेंसी एपी से कहा था कि कुछ अज्ञात लोग उनकी पत्नी का पीछा करते हैं और उनकी वीडियो बनाते हैं.

इससे पहले चीन ने चेन को अमरीकी दूतावास में शरण देने के लिए अमरीका से माफी मांगने को कहा था.

चीन के सरकारी अखबारों में से एक 'द बीजिंग डेली' चेन पर आरोप लगाया था कि वो चीन को कथित रूप से बदनाम करने की अमरीकी नेताओं की कथित साजिश में एक 'हथियार' और 'मोहरे' हैं.

मीडिया

इससे जु़ड़े एक दूसरे घटनाक्रम में चेन मामले को कवर करने वाले चीन स्थित कुछ विदेशी पत्रकारों को चीनी अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर उन्होंने दोबारा नियम तोड़े तो उनका वीजा समाप्त किया जा सकता है.

चीनी पुलिस की तरफ से ये बयान तब आया जब लगभग 20 पत्रकार बिना इजाजत उस अस्पताल में घुस गए जहां चेन का इलाज चल रहा है.

चेन पेशे से एक वकील है और वो चीन के प्रति परिवार एक बच्चे की नीति के तहत महिलाओं के जबरन नस्बंदी और जबरन गर्भपात का विरोध करते रहें हैं.

इस मामले का असर अमरीका की घरेलू राजनीति पर भी दिखा.

राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार चुने जाने के सबसे मजबूत दावेदार मिट रोमनी ने कहा है कि अगर ये खबर सही है कि चेन को अमरीकी दूतावास छोड़ने के लिए दबाव डालकर मनाया गया था तो 'ये ओबामा प्रशासन के लिए एक शर्म का दिन है''.

संबंधित समाचार