पुतिन ने अमरीका से माँगी गारंटी

  • 8 मई 2012
पुतिन इमेज कॉपीरइट AP
Image caption देश में हाल ही में संपन्न विवादित राष्ट्रपति चुनावों को जीतने के बाद पुतिन तीसरी बार राष्ट्रपति बने हैं

रूस के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन ने अमरीका कहा है कि वो इस बात की गारंटी दे कि उसका मिसाइल रोधी तंत्र रूस के खिलाफ़ नहीं है.

सोमवार को राजधानी मॉस्को में नई रूसी विदेश नीति पर दस्तख़त कर पुतिन ने आने वाले दिनों के लिए इस बारे में अपनी सरकार का नजरिया साफ़ कर दिया.

नए आदेश के अनुसार रूस अमरीका के साथ और गहरे संबंध चाहता है लेकिन वो अपने अंदरूनी मामलों में किसी भी तरह की कोई दखलंदाज़ी कतई बर्दाश्त नहीं करेगा.

आदेश

रूस के तीसरी बार राष्ट्रपति बनने के चंद घंटों बाद पुतिन ने इस आदेश पर दस्तख़त किए.

इस नए आदेश के अनुसार रूस अमरीका के साथ संबधों को "सही तौर पर सामरिक स्तर पर ले जाना चाहता है" लेकिन वो ऐसा एक "बराबरी के रिश्ते के आधार पर करना चाहता है जहाँ दोनों देश एक दूसरे के अंदरूनी मामलों में दखल ना दें और एक दूसरे के हितों का सम्मान करें."

इस आदेश के अनुसार रूस अमरीका से इस बात की पुख्ता गांरंटी की मांग करता रहेगा कि उसका मिसायल रोधी तंत्र रूस की सुरक्षा के लिए ख़तरा न तो बनेगा और ना ही यह रूस के परमाणु कवच को भेदने का प्रयास करेगा.

देश में हाल ही में संपन्न हुए राष्ट्रपति चुनावों को जीतने के बाद पुतिन तीसरी बार राष्ट्रपति बने हैं.

साल 1999 में पहली बार रूस की सत्ता के शीर्ष पर काबिज़ हुए पुतिन लगातार दो बार राष्ट्रपति रहने के बाद रूस के प्रधानमंत्री हो गए थे.

रूस का संविधान किसी भी आदमी को लगातार दो बार से अधिक राष्ट्रपति बनने की इजाज़त नहीं देता.

संबंधित समाचार