संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों के काफिले पर हमला

सीरिया इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सीरिया में हिसा बढ़ रही है संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत कोफी अन्नान ने कहा है कि प्राथमिक जिम्मेदारी राष्ट्रपति बशर अल असद की है

सीरिया में संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षकों के काफिले को डेरा शहर में निशाना बनाया गया है. जैसे ही काफिल शहर से गुजरा, उसके कुछ ही क्षणों बाद काफिले को सुरक्षा प्रदान कर रहे एक ट्रक में धमाका हुआ.

संयुक्त राष्ट्र की टीम के अध्यक्ष मेजर जनरल रॉबर्ट मूड इस काफिले में थे लेकिन वो और अन्य पर्यवेक्षक सुरक्षित हैं.

सीरियाई सेना के छह सैनिक बम धमाके में घायल हुए हैं.

डेरा में संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों के काफिले के साथ चल रहे समाचार एजेंसी एपी के संवादताता का कहना है कि धमाके के कारण सैन्य ट्रक की खिड़कियाँ टूट गईं और वहाँ काला धुँआ उठने लगा.

सीरिया के होम्स शहर में मौजूद बीबीसी संवाददाता लिस ड्यूसेट का कहना है कि वहाँ लगातार गोलीबारी हो रही है चाहे सरकार और विपक्षी फौजों के बीच में संघर्षविराम की घोषणा हो चुकी है.

होम्स में भी गोलाबारी

उन्होंने देर रात में होम्स में भारी हथियारों से गोलाबारी की आवाजें भी सुनी हैं.

लीस ड्यूसेट ने होम्स में संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षकों को दौरा करते देखा है लेकिन उनका कहना है कि पूरा इलाका वीरान पड़ा हुआ है.

सीरिया में पर्यवेक्षक संयुक्त राष्ट्र और अरब लीग की शांति योजना के तहत पिछले महीने से तैनात किए जा रहे हैं. वहाँ अब 30 पर्यवेक्षक मौजूद हैं लेकिन उनकी मौजूदगी के बाद भी देश में हिंसा में कोई कमी नहीं आई है.

गौरतलब है कि 40 साल से सीरिया में सत्ता में बने हुए असद परिवार और विशेष तौर पर राष्ट्रपति बशर अल असद के इस्तीफे की मांग करते हुए डेरा शहर से ही मार्च 2011 में विद्रोह की शुरुआत हुई थी.

डेरा में संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों के काफिले के साथ चल रहे समाचार एजेंसी एपी के संवादताता का कहना है कि धमाके के कारण सैन्य ट्रक की खिड़कियाँ टूट गईं और वहाँ काला धुँआ उठने लगा.

मंगलवार को मध्य पूर्व के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत कोफी अन्नान ने सुरक्षा परिषद से कहा था कि उनकी योजना सीरिया में गृह युद्ध रोकने का आखिरी अवसर है.

उनका कहना था कि वे उत्पीड़न, सामूहिक गिरफ्तारियों, और मानवाधिकारों से चिंतित हैं और इसकी प्राथमिक जिम्मेदारी राष्ट्रपति बशर अल असद की है.

A BBC correspondent who has been to the Syrian city of Homs says there is constant shooting there, despite a ceasefire between government and opposition forces. Our correspondent, who spent the night in Homs, also heard heavier weapons being fired. She saw United Nations monitors patrolling the city but said entire neighbourhoods were deserted. In the southern town of Deraa, at least six Syrian troops were wounded by a bomb while travelling with UN monitors. The head of the UN mission (Major General Robert Mood) was in the convoy. He was unhurt.

संबंधित समाचार