मिस्र: पहले दिन शांतिपूर्वक मतदान

  • 24 मई 2012
मिस्र इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बुधवार को मतदान स्थानीय समय सुबह आठ बजे शुरू हुआ.

मिस्र के पूर्व तानाशाह साशक होस्नी मुबारक को सत्ता से हटाए जाने के बाद पहली बार हो रहे राष्ट्रपति चुनाव के पहले दिन का मतदान शांतिपूर्वक तरीके से संपन्न हो गया है.

अगर इस चुनाव में कोई विजेता बन कर नहीं उभरता है तो 16 और 17 जून को दूसरे चरण का चुनाव होगा.

हालांकि मिस्र के चुनाव आयोग की शिकायत है कि तीन प्रमुख उम्मीदवारों ने चुनाव अभियान के नियमों को तोड़ा है.

बुधवार को मतदान स्थानीय समय सुबह आठ बजे शुरू हुआ जिसके बाद दिनभर देश के अलग-अलग हिस्सों में मतदाता लाइनों में खड़े देखे गए.

देश भर के करीब तेरह हजार मतदान केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी. बीबीसी संवाददाताओं का कहना है कि मिस्र में मतदान शांत माहौल में हुए और लोग अपनी बारी के इंतजार में खड़े देखे गए.

साल 2011 फरवरी में मुबारक के जाने के बाद सुप्रीम काउंसिल ऑफ आर्मिल फोर्सिस यानी सैन्य परिषद ने सत्ता अपने हाथ में ले ली थी. परिषद ने कहा है कि निष्पक्ष चुनाव होगा जिसके बाद सेना हट जाएगी.

उम्मीदवारी

इस चुनाव में पूर्व वायु सेना कमांडर अहमद शफीक, पूर्व विदेश मंत्री अम्र मूसा, फ्रीडम और जस्टिस पार्टी के मुखिया मोहम्मद मुरसी और निर्दलीय उम्मीदवार अब्दुल मोनिम अबुल फतौं राष्ट्रपति पद के अहम दावेदार है.

अम्र मूसा विदेश मंत्री के साथ ही अरब लीग के प्रमुख भी रहे चुके हैं.

उनके प्रतिद्वंदी मोहम्मद मुरसी शुरु में पार्टी के रिजर्व उम्मीदवार थे लेकिन असल उम्मीदवार खैरत अल शातेर के डिस्क्वालिफाई होने के बाद मुरसी को मैदान में उतारा गया. उनकी पढ़ाई अमरीका में हुई है और वे एक इंजीनियर हैं.

मिस्र के पाँच हजार साल के रिकॉर्डिड इतिहास में लोग पहली बार अपना नेता चुन रहे है.

संबंधित समाचार