लादेन पर फिल्म बनाने वालों को 'गोपनीय जानकारी'

  • 24 मई 2012
ओसामा इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मई 2011 के ओसामा पर हमले पर बन रही है फिल्म 'जीरो डार्क थर्टी'

अमरीका के एक कानूनी संगठन का कहना है कि ओबामा सरकार ने हॉलीवुड के दो फिल्मकारों को उन अधिकारियों से मिलवाया था जो ओसामा बिन लादेन को मारने वाले कमांडो ऑपरेशन में शामिल थे.

जूडिशियल वॉच ने अपनी वेबसाइट पर इस बारे में कुछ दस्तावेज लगाए हैं. संगठन का दावा कि इसमें उस फिल्म की योजना के बारे में पेंटागन के 153 और सीआईए के 113 पन्ने शामिल हैं.

इस संगठन का कहना है कि उसने जानकारी के अधिकारों के तहत दायर मुकदमे में ये दस्तावेज हासिल किए.

समाचार एजेंसी एपी ने कहा कि होमलैंड सुरक्षा कमेटी के चेयरमैन पीटर किंग ने सीआईए और रक्षा विभाग पर आरोप लगाया है कि उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाला.

पीटर किंग ने पिछली गर्मियों में इस पर संदेह जताया था लेकिन उन्होंने कहा कि जारी किए गए नए दस्तावेज इसकी पुष्टि करते हैं.

क्या है दस्तावेजों में

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने कहा है कि दस्तावेजों में सामने आया है कि फिल्म बनाने वालों की वाइट हाउस के उच्च अधिकारियों तक पहुंच थी और उन्हें हमले में शामिल 'सील' के एक सदस्य की जानकारी दी गई थी और उस गोपनीय जगह पर ले जाया गया था जहां हमले की योजना बनाई गई थी.

मई 2011 के हमले पर बन रही फिल्म 'जीरो डार्क थर्टी' पिछले साल विवादों के घेरे में आई थी जब न्यू यार्क टाईम्स में एक खबर आई थी कि इसके निर्माता नवंबर छह को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से कुछ पहले इसे रिलीज करना चाहते हैं. इसे अब दिसंबर के लिए टाल दिया गया है.

पेंटागन ने इन दस्तावेजों के कुछ पहुलओं पर संदेह जताया है. पेंटागन के प्रवक्ता ने कहा कि फिल्म बनाने वालों के साथ मिलना जुलना साधारण बात है.

वहीं सीआईए के प्रवक्ता प्रेस्टन गोलस्न ने इस बात पर आपत्ति जताई है कि फिल्मकारों को गुप्त वॉल्ट तक ले जाया गया. उन्होंने कहा, "हमारे मुख्यालय में लगभग हर कमरा और कार्यालय वॉल्ट कहलाता है. जब फिल्मकार दौरे पर आए थे उस समय वो वॉल्ट खाली था जहाँ हमले की योजना बनाई गई थी."

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार