अमरीकी सिखों की भेदभाव के खिलाफ मुहिम

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption न्यूयार्क में 9/11 के हमलों के बाद हवाई अड्डों की सुरक्षा व्यवस्था अभूतपूर्व कर दी गई.

अमरीका में रह रहे सिखों के एक समूह ने 'फ्लाईराइटस' नाम का एक ऐसा स्मार्टफोन एप्लिकेशन जारी किया है जिसके जरिए हवाई अड्डों पर होने वाले अपमान की शिकायत दर्ज कराई जा सकती है.

फ्लाईराइटस एप्लिकेशन उन सिखों की चिंताओं को देखते हुए बनाया किया गया है, जिन्हें पगड़ी पहने के चलते हवाई अड्डों पर गहन सुरक्षा जाँच के नाम पर परेशान किया जाता है.

इसे लगभग 12 हजार बार डाउनलोड किया गया है.

एक महीने के भीतर तीस लोगों ने अपने साथ हुए भेदभाव पूर्ण बर्ताव के खिलाफ शिकायतें दर्ज कराई है.

9/11 के हमलों का प्रभाव

दरअसल अमरीका के न्यूयार्क में 9/11 के हमलों के बाद हवाई अड्डों की सुरक्षा व्यवस्था अभूतपूर्व कर दी गई.

इसका मकसद ये था कि यात्रियों को कड़ी सुरक्षा जाँच से गुजारा जा सके ताकि वायुयानों को हमलों के लिए हथियार के रुप में इस्तेमाल करने से रोका जा सके,

और न ही कोई भी व्यक्ति बम की योजना न बना सके

कड़े सुरक्षा उपायों के तहत शरीर की जाँच तो जरुरी है ही साथ ही किसी भी तरह के तरल पदार्थों के ले जाने पर भी पाबंदी लगा दी गई.

हॉउनस्लोव के श्री गुरु सिंह साहिब गुरुद्वारा में धर्मावलंबियों कहते हैं कि क्योंकि वो पगड़ी पहनते हैं इसलिए हवाई अड्डे पर तैनात सुरक्षा अधिकारी उनके साथ दोयम दर्जे की व्यवहार करते हैं

लेकिन पगड़ी पहनना सिख धर्म के लिहाज से सबसे जरुरी चीजों मे से एक है और सबके सामने इसे उतारना बेहद अपमान जनक है.

एक सिख अपनी आपबीती बताते हुए कहते हैं, “एक सुरक्षाकर्मी मेरे पास आया, उसके हाथ में पिस्तौल थी . उसने तीन ट्रे मेरे सामने रख दी और कहा पगड़ी उतारो, पूरी जिंदगी में मुझे किसी ने इस तरह से अपमानित नही किया. आज तक किसी की इस तरह की हिम्मत नही हुई कि वो मुझसे अपनी पगड़ी उतारने को कहे”.

अपमान की शिकायत

अमरीका में सिखों से भेदभाव के खिलाफ अभियान चलाने वाले संगठन का कहना है कि इस तरह की घटनाए आम बात होती जा रही है.

पिछले कई सालों से इस तरह की घटनाएं हो तो रही थी लेकिन उनकी शिकायत दर्ज नही कराई जाती थी.

सिख संघ की ओर से राजदीप सिंह ने कहा कि उन्होंने स्मार्ट फोन एपलिकेशन के जरिए उन यात्रियों के लिए एक कोशिश की है जो यात्रा के दौरान होने वाले दुर्व्यवहार के खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकें.

राजदीप कहते है कि" हम इस तरह की नस्लवादी धटनाओं से बेहद चिंतित हैं.फ्लाईराइट एक स्मार्ट मोबाइल फोन एप्लिकेशन है, जिससे यात्री अमरीकी हवाई अड्डों पर इस तरह की घटनाएं होने के तत्काल बाद औपचारिक शिकायत दर्ज करा सकते हैं, मुझे उम्मीद है कि इस एप्लिकेशन से इस तरह की घटनाओं को दर्ज कराने के बाद केस को मजबूती मिल सकेगी."

नस्लवादी रवैया

राजदीप सिंह कहते हैं कि ये एप्लिकेशन उस वक्त बेहद मददगार होगा जब सिख होने के चलते सुरक्षा जाँच के नाम पर उनके साथ नस्ली भेदभाव हो.

अमरीका में हवाई अड्डों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार एजेंसी टीएसए ने इन नए फ्लाईराइट एप्लिकेशन पर एक बयान जारी किया और कहा कि वो किसी भी धर्म, नस्ल के आधार पर इस तरह का कोई भेदभाव नही करता. हम यात्रियों की सुविधाओं का पूरा ख्याल रखते हैं.

लंदन में रह रहे सिखों ने इसका स्वागत किया है. उनका कहना है कि इस एप्लिकेशन को पहले ही शुरु किया जाना चाहिए था. सिखों के भी मानवाधिकार हैं. अमरीका के हवाई अड्डों पर तैनात लोगों को सिख धर्म के बारे में पता भी नही है

हांलाकि इसका इस्तेमाल सभी धर्मों और सभी देशों के लोग कर सकेंगे. क्योंकि इसे अमरीका के हवाई अड्डों की शिकायतें दर्ज कराने के लिए डिजाइन किया गया है.

संबंधित समाचार