लंदन में पाकिस्तानी फैशन का जलवा

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption पाकिस्तान के फैशन उद्योग में जबरदस्त उछाल देखा जा रहा है.

साठ मॉडल, 30 डिजाइनर और सैंकड़ो की तादाद में फैशन प्रेमियों ने लंदन के किंग्सटन टाउन हॉल में पाकिस्तानी फैशन शो में हिस्सा लिया है.

पिछले दो सालों से लंदन में पाकिस्तानी फैशन शो हो रहा है. इसमें कैटवॉक के साथ- साथ आभूषणों का भी प्रदर्शन किया गया है.

स्वर्गीय प्रिंसेस डायना से लेकर हॉलीवुड स्टार एंजिलेना जॉली तक तमाम बड़ी हस्तियों ने पाकिस्तानी सलवार कमीज़ को पसंद किया है.

ब्रिटेन की गृह मंत्री टेरेसा मे कहती हैं, "मुझे इन कपड़ों को पहनना अच्छा लगता है. तमाम मौकों पर मैं इन्हें पहनती हूं".

फैशन उद्योग में उछाल

हालांकि इस बात के कोई आधिकारिक आंकडे नही हैं लेकिन जानकारों का मानना है कि पाकिस्तान के फैशन उद्योग में जबरदस्त उछाल देखा जा रहा है.

पाकिस्तान के चर्चित डिजाइनरों में गिनी जाने वाले महीन खान कहती हैं, "ये बहुत बड़ी इंडस्ट्री है और पिछले दस सालों में ये और बड़ी हो गई है."

लंदन में पाकिस्तान फैशन वीक के आयोजन पर महीन खान कहती हैं, "जिस तरह की समस्याओं से पाकिस्तान जूझ रहा है ऐसे में पाकिस्तान के फैशन को यहाँ लाना ही बेहतर है. क्योंकि आपको वहाँ बुलाना काफी मुश्किल है."

आयोजकों की मेहनत

इस फैशन वीक को सफल बनाने के लिए आयोजकों ने काफी मेहनत की है.

आयोजक आदनान अंसारी का कहना है,"हम पाकिस्तान की वास्तविक छवि दिखाना चाहते हैं. हम पूरी दुनिया विशेष रुप से इस क्षेत्र को ये दिखाना चाहते हैं कि पाकिस्तानी मनोरंजन पसंद करते हैं और वो कितने रचनात्मक होते हैं."

दो दिनों तक चलने वाले इस फैशन शो में पाकिस्तान के सबसे प्रसिद्ध डिजाइनर शिरकत कर रहे हैं. इनमें उमर सईद और हसन शहरयार यासिन भी शामिल हैं.

हसन कहते हैं कि उन्हें यहाँ काफी अच्छा लग रहा है, इससे उन्हें भी ये जानने का मौका मिलेगा कि पाकिस्तान के डिज़ाइनर वहाँ क्या काम कर रहे हैं. ये हमारे लिए भी काफी जरुरी है.

अंतरराष्ट्रीय पहचान

लेकिन आयोजकों का कहना है कि वो चाहते हैं कि इसमें नए डिजाइनर अपने शानदार काम का प्रदर्शन करें ताकि उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिल सके.

फलक नाज फैशन डिजाइनर हैं और उन्होंने पहली बार यहाँ हिस्सा लिया है. वो कहती हैं कि उनके साथ काफी प्रसिद्ध डिजाइनर भी इसमें हिस्सा ले रहे हैं इसलिए वो काफी नर्वस है.

इस फैशन वीक में हिस्सा लेने वालों का मानना है कि लंदन में उनके काम के प्रदर्शन से उनके काम से लोग उन्हें पहचानेंगे और सराहेंगे भी.

इस फैशनवीक की एक और विशेषता है कि इसमे रैंप पर उतरने वाली दो तिहाई मॉडल दक्षिण एशियाई देशों की नही हैं. कुछ पर्यवेक्षक मानते हैं कि इसका मतलब ये है कि लंदन में पाकिस्तान का ये फैशन वीक अंतरराष्ट्रीय स्तर का हो गया है.

संबंधित समाचार