सांसद सचिन ने कहा सभी खेलों से जुड़े मुद्दे उठाएंगे

 सोमवार, 4 जून, 2012 को 11:23 IST तक के समाचार
सचिन तेंदुलकर

रेखा के बाद सोमवार को सचिन तेंदुलकर ने भी राज्य सभा की शपथ ली

सचिन तेंदुलकर ने सोमवार को हिंदी में शपथ लेने के साथ ही बतौर राज्य सभा सांसद अपनी नई पारी की शुरुआत की. 39 साल के सचिन ने उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी के चैंबर में यह शपथ ली.

राज्य सभा का सत्र पिछले महीने ही खत्म हो चुका है. अभिनेत्री रेखा के साथ सचिन को नामित किया गया था. रेखा ने 15 मई को राज्य सभा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी. सचिन के साथ उनकी पत्नी अंजलि भी थीं.

शपथ लेने के बाद सचिन तेंदुलकर ने कहा, "राज्य सभा में आने के बाद मैं क्रिकेट ही नहीं अन्य खेलों की भी सहायता कर पाऊंगा. मैं अन्य खेलों की सहायता करने की पूरी कोशिश करुंगा. इस काम में चुनौतियां आ सकती हैं और इसके लिए मैं साथी सांसदों, मीडिया और देशवासियों से मदद लेना चाहूंगा. मैं क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों में भी अपने योगदान के लिए भी जाना चाहूंगा."

तेंदुलकर ने कहा कि वो आज जो कुछ हैं क्रिकेट की वजह से हैं और इसलिए वो हमेशा इस खेल के लिए कुछ करना चाहते थे.

ये पूछे जाने पर कि क्या क्रिकेट खेलते हुए वे सांसद होने की जिम्मेदारी पूरी तरह से निभा पाएंगे, सचिन तेंदुलकर ने कहा, " मैं मनोनित सदस्य हूं. मैं सांसद बनने के लिए किसी के पास नहीं गया था. मैं इसे सम्मान मानता हूं. मैं यहां अपने क्रिकेट करियर की वजह से हूं. इसलिए मैं क्रिकेट से अपना फोकस जरा भी नहीं हटा सकता."

योगदान

"राज्य सभा में आने के बाद मैं क्रिकेट ही नहीं अन्य खेलों की भी सहायता कर पाऊंगा. मैं अन्य खेलों की सहायता करने की पूरी कोशिश करुंगा. इस काम में चुनौतियां आ सकती हैं और इसके लिए में साथी सांसदों और अन्य खिलाड़ियों से मदद लेना चाहूंगा. मैं क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों में भी अपने योगदान के लिए भी जाना जाना चाहूंगा."

सचिन तेंदुलकर, शपथ लेने के बाद

तेंदुलकर ने साफ किया कि फिलहाल उनका क्रिकेट को अलविदा कहने का कोई इरादा नहीं है. उन्होंने कहा कि जब वो क्रिकेट में अपने भविष्य के बारे में फैसला करेंगे, तब सभी को इसकी जानकारी देंगे.

प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्री वी नारायण सामी ने उन्हें हरे रंग का शाल पहनाया.

टेस्ट और वनडे में सौ शतक लगा चुके सचिन के साथियों को पूरा भरोसा है कि वो राज्य सभा में भी अपनी छाप छोड़ेंगे.

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा, “राज्य सभा सचिन के लिए नया आयाम है. मुझे पूरा भरोसा है कि वो वहां भी योगदान करेंगे. मैं उन्हें अपनी शुभकामनाएं देना चाहूंगा. क्रिकेट के साथ-साथ उन्होंने हर क्षेत्र में योगदान किया है.”

युवराज सिंह ने कहा, “सचिन को अब ‘गुड मॉर्निंग सर’ कह कर बुलाना पडे़गा.”

शुभकामनाएं

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर ने कहा कि क्रिकेट से संन्यास की फिलहाल कोई योजना नहीं.

विश्व शंतरज चैंपियन विश्वनाथन आनंद ने एनडीटीवी से कहा, “सचिन ने अपनी भूमिका का हमेशा आनंद लिया है. वह हर भूमिका को बखूबी निभा सकते हैं. यह उनके लिए बड़ा कदम है. ”

हालांकि सचिन का राज्य सभा में प्रवेश बिना विवाद के नहीं हुआ. उन्हें राज्य सभा के लिए मनोनित किए जाने को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में जनहित याचिका भी दायर हुई. इस पर केंद्र को नोटिस भी जारी किया गया. हालांकि बाद में कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया.

सचिन तेंदुलकर ने राज्यसभा में मनोनीत होने के बाद अपनी प्रतिक्रिया में कहा था कि ये उनके लिए एक बड़ा सम्मान है लेकिन वो नेता नहीं खिलाड़ी हैं और खिलाड़ी ही रहेंगे.

मनोनित होने के बाद तेंदुलकर ने कहा था, '' राष्ट्रपति आपका नाम मनोनीत करती है तो इस लिस्ट में काफी बड़े बड़े नाम आए हैं. लता दीदी, पृथ्वीराज कपूर भी थे, और भी बड़े नाम थे जिनको मनोनीत किया गया था. मैं साढ़े 22 साल क्रिकेट खेला हूं. मैं समझता हू कि इतने साल खेलने की वजह से मनोनीत किया गया है.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.