सीरियाई गाँव में यूएन पर्यवेक्षकों पर हमला

  • 7 जून 2012
इमेज कॉपीरइट UN
Image caption बान की मून ने कहा कि कुबैर में हुए हमले की घटना स्तब्ध करनेवाली बर्बर घटना है

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा है कि सीरिया के उस गाँव मे पहुँचने की कोशिश कर रहे संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों पर गोलियाँ चलाई गई हैं जहाँ 78 लोगों के मारे जाने की बात कही जा रही है.

मून ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए इस जनसंहार की खबर को स्तब्धकारी और बर्बर बताया.

संयुक्त राष्ट्र-अरब लीग के शांतिदूत कोफ़ी अन्नान ने भी चेतावनी दी है कि हिंसा बढ़ रही है जिससे इस क्षेत्र को ख़तरा हो सकता है.

उन्होंने कहा कि सीरिया ने उनकी शांतियोजना को स्वीकार किया है मगर वो उसका पालन नहीं कर रहा.

उन्होंने कहा कि कुबैर गाँव में हुई हत्याओं के लिए दोषी लोगों को अवश्य कटघरे में खड़ा करना चाहिए.

विपक्षी कार्यकर्ताओं ने कुबैर में हुई मौतों के लिए सरकार-समर्थक सेनाओं पर आरोप लगाया है.

मगर मृतकों की संख्या को बेहद कम बता रही सरकार का कहना है कि आम नागरिकों को “आतंकवादियों” ने मारा.

हिंसा की ताज़ा खबर ऐसे ही एक और हमले के दो हफ़्ते से भी कम समय के बीच आई है. हाल ही में हूला में ऐसे ही जनसंहार में 108 लोग मारे गए थे.

कार्यकर्ताओं का कहना है कि सुरक्षाबलों ने बुधवार को हमा से 20 किलोमीटर दूर स्थित कुबैर गाँव पर बमबारी की जहाँ 30 से कम घर हैं.

निन्दा

कुबैर की घटना पर संयुक्त राष्ट्र महासभा में बान की मून ने कहा,”पहले हमारे निरीक्षकों को घटनास्थल तक जाने से रोका गया. और कुछ ही समय पहेल मुझे बताया गया है कि उनपर छोटे हथियारों से हमले हुए हैं “.

कोफ़ी अन्नान की पहल पर तैयार की गई शांतियोजना को लागू करने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने सीरिया में 297 पर्यवेक्षकों को तैनात किया है.

इसके तहत सीरिया में सभी पक्षों की ओर से संघर्षविराम की भी बात की गई है जिसे अप्रैल के मध्य से लागू करवाया गया है.

कोफी अन्नान ने कुबैर के हमले की निन्दा करते हुए कहा कि सीरिया में इस तरह से जनसंहार को रोजाना की घटना नहीं बनने दिया जा सकता.

उन्होंने कहा,"समय आ गया है जब ये तय किया जाए कि शांतियोजना को लागू करवाने के लिए और क्या होना चाहिए और संकट के हल के लिए हमारे सामने और क्या विकल्प हैं."

अन्नान ने कहा कि सीरिया में इस भयावह स्थिति में रह रहे लोगों का ध्यान रखकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एकजुटता दिखाते हुए प्रयास करना चाहिए.

संबंधित समाचार