सीरिया: होम्स में गोलीबारी के बीच फंसे लोग

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption संयुक्त राष्ट्र ने सीरिया में अपना पर्यवेक्षक मिशन स्थगित कर दिया है

सीरियन ऑब्जरवेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स संस्था का कहना है कि सीरिया के शहर होम्स पर सेना ने भारी गोलाबारी की है.

होम्स में हाल के दिनों में गोलाबारी की घटनाएं बढ़ी हैं. खबरें हैं कि आम लोग इस गोलीबारी के बीच फंस गए हैं.

सीरियन ऑब्जरवेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक होम्स में 1000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगह पर पहुंचाने की जरूरत है.

संयुक्त राष्ट्र ने सीरिया में अपना पर्यवेक्षक मिशन स्थगित कर दिया है. सीरियन ऑब्जरवेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने इसकी आलोचना की है.

'होम्स निशाने पर'

होम्स में रहने वाले अबु इमाद ने बीबीसी को बताया कि होम्स का 85 फीसद हिस्सा निशाने पर है.

उन्होंने बताया, ''मुझे डर है कि होम्स में कोई महफूज जगह नहीं बची है. हमें एक नया शहर बसाना होगा क्योंकि यहां कुछ नहीं बचा है.''

इंटरनेट पर अपलोड किए गए वीडियो में दिखाया गया है कि अल-बदाया और गाउटा ज़िलों में गोलीबारी की वजह से इमारतों और वाहनों को भारी नुकसान पहुंचा है.

विपक्षी सीरियन नेशनल काउंसिल (एसएनसी) ने चेतावनी दी थी कि होम्स शहर पर नरसंहार का खतरा मंडरा रहा है. होम्स शहर सरकार विरोधी कार्यकर्ताओं का मुख्य केंद्र रहा है.

सीरिया में संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक मिशन के प्रमुख रॉबर्ट मूड ने शनिवार को कहा था कि हिंसा इतनी तेज हो गई है कि पर्यवेक्षकों को अपना काम करना मुश्किल हो गया है.

उन्होंने कहा था कि इसी वजह से मिशन को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है और हिंसा कम होने पर ही इसे दोबारा शुरु किया जाएगा.

संबंधित समाचार