ओसामा के जाने से टला नहीं है खतरा: एमआई-5

  • 26 जून 2012
यमन अल कायदा इमेज कॉपीरइट bbc

ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी एमआई-5 के प्रमुख जॉनथन एवांस ने कहा है कि वे ये न सोचें कि ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद आतंक का खतरा खत्म हो गया है.

एमआई-5 के प्रमुख ने दो सालों में पहली बार लंदन में सार्वजनिक भाषण दिया. उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो आतंकवादी हमला करना चाहते हैं.

जॉनथन एवांस ने बताया कि पूर्व में आतंकवाद से जुड़ी 75 फीसदी घटनाओं का संबंध पाकिस्तान या अफगानिस्तान से होता था लेकिन अब ऐसे किस्से 50 फीसदी से कम हो गए हैं.

ओलंपिक खेलों पर निशाना

एमआई-5 प्रमुख ने भारत समेत अन्य देशों में इसराइली ठिकानों को निशाना बनाए जाने के संदर्भ में ईरान पर भी चिंता जताई.

ईरान के मुद्दे पर उन्होंने कहा, “ईरान या हिज्बुल्ला जैसी उसके सहयोगियों के समर्थन से होने वाले चरमपंथ से इनकार नहीं किया जा सकता.”

एमआई-5 प्रमुख ने कहा कि लंदन ओलंपिक आंतकवादी गुटों के निशाने पर हो सकता है और सुरक्षाकर्मी तैयारी में जुटे हैं.

अपने भाषण में उन्होंने कहा, “ओलंपिक को निशाना बनाना आसान नहीं होगा हालांकि इसमें कोई शक नहीं कि आतंकवादी गुटों ने हमला करने पर विचार किया है.”

साइबर हमलों पर चिंता

जॉनथन एवांस ने माना कि ब्रिटेन में साइबर हमले बहुत ही चिंता की बात है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद और अन्य अपराधों से लड़ने के लिए सोशल नेटवर्कों जैसे माध्यमों से डाटा इकट्ठा करना ज़रूरी कदम है.

उन्होंने कहा, “ये तो बहुत ही अजीब होगा अगर चरमपंथी और अपराधी नई तकनीक अपनाने में कामयाब होते हैं और सुरक्षा एजेंसियों को ये अनुमति नहीं दी जाती कि वे इन तकनीकी बदलावों को न अपना सकें.”

जॉनथन एवांस ने इन आरोपों का भी जवाब दिया कि सुरक्षा एजेंसियाँ बेमतलब का हौवा पैदा करती हैं.

संबंधित समाचार