सोमवार से महंगी होंगी कई सेवाएं

  • 1 जुलाई 2012
रुपया इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption वित्त मंत्रालय का लक्ष्य है कि इस वित्तीय वर्ष में 1.24 लाख रुपए का सेवा कर इकट्ठा किया जाए

दो जुलाई से नए सेवा कर प्रावधान लागू होने के बाद नकारात्मक सूची में मौजूद सेवाओं के अलावा सभी सेवाएं महंगी हो जाएंगीं.

नकारात्मक सूची में कुल 38 सेवाएं हैं जिन पर सेवा कर नहीं लगाया जाता है.

बाकी सभी सेवाओं पर अब 12 प्रतिशत टैक्स लगेगा. इससे पहले सरकार ने फैसला किया था कि नकारात्मक सूची को एक जुलाई से लागू किया जाएगा.

मीटर टैक्सी, ऑटो रिक्शा, सट्टेबाज़ी, लॉटरी, क्रीड़ा पार्क की एंट्री टिकट, यात्रियों और सामग्रियों की आवाजाही, बिजली के ट्रांसमिशन जैसी सेवाएं नकारात्मक सूची में है.

इसके अलावा क्रिया कर्म संबंधी सेवाओं पर भी टैक्स नहीं लगेगा.

हालांकि कोचिंग क्लासेज़ और प्रशिक्षण संस्थानों पर टैक्स लगेगा, लेकिन स्कूलों और विश्वविद्यालयों और सरकार द्वारा प्रमाणित व्यावसायिक कोर्स पर टैक्स नहीं लगेगा.

हालांकि रेल किराया और सेवाओं से जुड़े टैक्स पर अब भी असमंजस बना हुआ है.

रेल मंत्री मुकुल रॉय ने कहा है कि मंत्रालय किरायों में एक जुलाई से बढ़ोत्तरी नहीं करेगा और उन्होंने इस बाबत मनमोहन सिंह को एक पत्र लिखा है क्योंकि वित्त मंत्रालय का प्रभार अब उनके पास है.

महंगाई

सेवा क्षेत्र में आने वाली सेवाओं का दायरा सरकार ने बढ़ा दिया है जिससे कि अब ज़्यादा सेवाओं पर कर लगेगा.

अब तक 119 ऐसी सेवाएं हैं जो सकारात्मक सूची में आ चुकी हैं जिन पर सेवा कर लगेगा.

ऐसे समय में जब महंगाई लोगों की जेब पर भारी पड़ रही है, सेवा कर के दायरा बढ़ाने से आम आदमी की जेब पर और भी असर पड़ेगा.

सेवा कर के नए नियम भारत की अर्थव्यवस्था को वस्तु व सेवा कर की नई प्रणाली के करीब ले जाने ले लिए लागू किए जा रहे हैं.

वकीलों को व्यवसायिक संस्थाओं (जिनका टर्नओवर 10 लाख रुपए हो) और दूसरे वकीलों को दी जाने वाली सेवाओं पर भी सेवा कर नहीं लगाया जाएगा.

शौचालय और स्नानघर जैसी जन सुविधाएं भी नकारात्मक सूची का ही हिस्सा रहेंगीं.

साथ ही जवाहरलाल नेहरू शहरी विकास मिशन और राजीव गांधी आवास योजनाओं के लिए दिए जाने वाले कॉन्ट्रैक्ट पर भी सेवा टैक्स नहीं लगेगा.

वित्त मंत्रालय का लक्ष्य है कि इस वित्तीय वर्ष में 1.24 लाख रुपए का सेवा कर इकट्ठा किया जाए जो कि 2011-12 के 97,000 करोड़ के आंकड़े के मुकाबले कहीं ज़्यादा है.

संबंधित समाचार