ओलंपिक खेलों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं होगा

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption लंदन ओलंपिक खेलों के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं

ब्रिटेन की गृहमंत्री थेरेसा मे ने कहा है कि लंदन ओलंपिक खेलों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा. उनका ये बयान तब आया है जब ये पता चला कि ओलंपिक की सुरक्षा के लिए 3500 अतिरिक्त सैनिकों की जरूरत पड़ेगी.

उन्होंने बुधवार को सांसदों के समक्ष कहा कि सरकार के सामने ये बात आई है कि अनुबंधकर्ता जी-4एस के पास पर्याप्त संख्या में प्रशिक्षित कर्मचारी नहीं हैं.

सुरक्षाकर्मियों की ये अतिरिक्त संख्या, मौजूदा 13,500 सुरक्षाकर्मियों के अलावा है. गृहमंत्री ने कहा कि ओलंपिक की लगभग 10,000 टिकटें सशस्त्र बलों को मुहैया कराई जाएंगी.

लंदन में चरमपंथ निरोधक अभियान

लेबर पार्टी के कीथ वाज़ के एक आपात सवाल का जबाव देते हुए गृहमंत्री ने कहा, ''मैं सदन को ये पक्के तौर पर बता सकती हूं कि ओलंपिक खेलों की सुरक्षा के लिए ऐसा कोई खतरा नहीं है और खतरे के स्तर में कोई बदलाव नहीं हुआ है.''

उन्होंने कहा, ''मैं इस बात को दोहराना चाहूंगी कि ओलंपिक खेलों की सुरक्षा से समझौता करने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है.''

दुनिया का सबसे अच्छा सैन्यबल

ब्रिटेन की गृहमंत्री टेरेसा मे ने कहा कि ब्रिटेन के पास दुनिया का सबसे अच्छा सैन्यबल है.

उन्होंने कहा, ''राष्ट्र को जरूरत पड़ने पर ये सैनिक अपने कर्तव्य के निर्वहन के लिए तैयार रहते हैं. हमारे सैनिक बड़े दक्ष और उत्तम तरीके से प्रशिक्षित हैं. ये हमारे देश के समक्ष आज की तारीख में सबसे महत्वपूर्ण काम है.''

गृह मामलों पर नजर रखने वाली विपक्षी सदस्य कूपर का कहना है कि ये समस्या कितनी बड़ी है, इसका स्तर बहुत पहले समझ लेना चाहिए था.

वे कहती हैं, ''हम सभी चाहते हैं कि ओलंपिक खेल सुरक्षित और सफल हो, हम गृहमंत्री के फैसले का समर्थन करते हैं कि सुरक्षा के लिए अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया जाएगा. लेकिन हमारा ये भी मानना है कि ओलंपिक के समक्ष चुनौतियों के मद्देनजर कोई इस बात की गारंटी नहीं दे सकता कि सब कुछ ठीक तरीके से हो जाएगा.''

डाउनिंग स्ट्रीट से जारी बयान में कहा गया है कि ओलंपिक को सुरक्षा प्रदान करने में जी-4एस की अक्षमता दुर्भाग्यजनक है.

इसमें चेतावनी दी गई है कि अपने अनुबंध को पूरा नहीं करने के लिए इस कंपनी को नतीजे भुगतने होंगे.

संबंधित समाचार