ओलंपिक की सुरक्षा अभी भी अधर में

  • 16 जुलाई 2012
हिथ्रो हवाई अड्डा, लंदन इमेज कॉपीरइट PA
Image caption हिथ्रो हवाई अड्डे पर उसैन बोल्ट की मोम की प्रतिमा लगाई गई है.

लंदन ओलंपिक में भाग लेने के लिए ख़िलाड़ियों और अधिकारियों का आना शुरू हो गया है लेकिन अब भी सुरक्षागार्डों की भर्ती को लेकर सवाल बने हुए हैं.

ओलंपिक समारोह के उदघाटन में अब केवल 11 दिन रह गए हैं इसलिए तैयारियाँ ज़ोरों पर हैं.

सोमवार को लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे पर लगभग एक लाख 20 हज़ार यात्री आएंगे जो कि सामान्य से लगभग 10 हज़ार ज़्यादा होंगे.

ब्रिटेन के आप्रवासी मामलों के मंत्री डेमियन ग्रीन ने कहा है कि ब्रिटेन का सीमा सुरक्षा बल रविवार से ही पूरी तरह से ओलंपिक के लिए तैयार है और हीथ्रो हवाई अड्डे के सभी आव्रजन डेस्क पर अधिकारी मौजूद रहेंगे.

ओलंपिक के लिए आने वाले खिलाड़ियों और अधिकारियों की मदद के लिए हवाई अड्डे पर स्वयंसेवी तैयार रहेंगे जो उन्हें ओलंपिक गाँव ले जाने के लिए बसों या ट्रेनों तक का रास्ता दिखाएँगे.

पूर्वी लंदन के स्ट्रैटफोर्ड में बने ओलंपिक गाँव में लगभग 16 हज़ार खिलाड़ी और अधिकारी रह सकेंगे.

एंटी-डोपिंग टेस्ट

सड़क के रास्ते आने वाले लोगों के लिए ख़ास तौर से 'गेम्स लेन्स' बनाए गए हैं. सड़क पर चलने वाले आम नागरिक उन रास्तों का इस्तेमाल केवल रात में कर सकेंगे जब ओलंपिक से जुड़े लोग इसका इस्तेमाल नहीं करेंगे.

प्रतिबंधित दवाओं का ओलंपिक के इतिहास में सबसे बड़ा परीक्षण भी सोमवार से शुरू हो जाएगा. जानकारी के मुताबिक जांच के लिए लगभग छह हज़ार नमूने लिए जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption हिथ्रो हवाई अड्डे पर अप्रावसन अधिकारी भारी संख्या में तैनात किए गए है.

हर पदक विजेता के अलावा इन खेलों में हिस्सा लेने वाले लगभग आधे खिलाड़ियों के नमूनों की जांच की जाएगी.

इस बीच ओलंपिक खेलों में सुरक्षागार्ड मुहैया कराने वाली कंपनी जी4एस के चेयरमैन ने सुरक्षागार्डों को मुहैया कराने में असमर्थता के कारण उठे विवाद में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी का समर्थन करने से मना कर दिया है.

पिछले सप्ताह उठे इस विवाद के बाद लगभग साढ़े तीन हज़ार ब्रितानी सैनिकों को तैनात करने का फ़ैसला किया गया था.

जी4एस के चेयरमैन जॉन कॉनली ने फ़ाइनेंशियल टाइम्स अख़बार से बातचीत के दौरान कहा, ''हम लोग कोई भी ऐसा काम नहीं करना चाहते जिससे ये लगे कि ये एक अल्पकालीन क़दम है, लेकिन ये देखना बहुत ज़रूरी है कि कंपनी के बड़े अधिकारी कंपनी को आगे ले जाने में सक्षम हैं या नहीं.''

जॉन कॉनली का बयान कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निक बकल्स के बयान के ठीक बाद आया है जिसमें बकल्स ने कहा था कि वो कंपनी और ओलंपिक आयोजकों से हुए अनुबंध को पूरा करने के लिए कंपनी में बने रहेंगे हालाकि उन्होंने एक समय में कंपनी से इस्तीफ़ा देने के बारे में सोचा था.

निक बकल्स मंगलवार को आंतरिक मामलों की संसदीय समिति के सामने पेश होंगे जहां उन्हें सासंदों के कठिन सवालों का जवाब देना होगा.

ब्रितानी संसद की लोक सेवा समिति ने जी4एस, दो सरकारी विभाग और ओलंपिक के आयोजकों को सितंबर में समिति के सामने पेश होने के लिए कहा है.

इस बीच लंदन ओलंपिक 2012 के चेयरमैन लॉर्ड को ने कहा है कि सुरक्षागार्ड मुहैया कराने में जी4एस की विफलता के बावजूद ओलंपिक की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया गया है.

जी4एस को दस हज़ार सुरक्षागार्ड मुहैया कराने थे जो वो नहीं कर सकी और कंपनी के मुताबिक़ इस कारण उसे लगभग पांच करोड़ पाउंड का घाटा हो सकता है.

संबंधित समाचार