अमरीका में सदी का सबसे बड़ा सूखा

मक्के का सूखता खेत इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीका इस सदी का सबसे भीषण सूखा झेल रहा है.

अमरीकी मौसम विभाग नेशनल ओसियानिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) के अनुसार वर्ष 1956 के बाद से ये अब तक का सबसे बड़ा सूखा है.

सोमवार को एनओएए ने कहा कि जून के अंत तक अमरीकी महाद्वीप का 55 प्रतिशत हिस्सा औसत से गंभीर सूखे की चपेट में है.

इस सूखे की वजह से मक्के और सोयाबीन की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है और कई राज्यों के जंगलों में आग लगी हुई है. पिछले दिनों ख़बर थी कि नौ राज्यों में 19 स्थानों पर भीषण आग लगी हुई है.

ये चिंता पहले ही ज़ाहिर की जा चुकी है चूंकि अमरीका, गेंहू, सोयाबीन और मक्के का दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक है इसलिए इस सूखे से दुनिया भर में अनाज की उपलब्धता पर विपरीत असर पड़ सकता है.

कई जगह आपदा घोषित

पूरे देश में जून के महीने में पड़ी भीषण गर्मी ने सूखे के प्रभाव को और बढ़ा दिया है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि अमरीका का 80 प्रतिशत हिस्सा असामान्य रूप से सूखा है और सूखे का असर पश्चिमी, मैदानी हिस्सों और मध्यपश्चिमी हिस्से में फैल गया है.

Image caption कई जगह जंगलों की आग की वजह से लोगों को विस्थापित करना पड़ा है

एनओएए ने कहा है कि जब से उसने रिकॉर्ड रखना शुरु किया है पिछला जून 14वाँ सबसे गर्म और 10वाँ सबसे सूखा जून रहा है.

कृषि अधिकारियों का अनुमान है कि 18 राज्यों में जहाँ मक्के का सबसे ज्यादा उत्पादन होता है 30 प्रतिशत फसल पिछले हफ़्ते तक या तो खराब स्थिति में थी या बहुत ख़राब स्थिति में.

एनओएए की रिपोर्ट में कहा गया है, "जमीन की ऊपरी सतह सूख गई है, फसल और चारागाह की इतनी खराब स्थिति पिछले 18 वर्षों में कभी नहीं दिखी."

अमरीका के कृषि विभाग के अनुसार 26 राज्यों की 1000 काउंटी यानी स्थानीय निकायों ने सूखे की वजह से आपदा घोषित कर दी है.

इससे पहले एनओएए ने उसके पास 1895 से आधुनिक ढंग का रिकॉर्ड है और इसके हिसाब से पिछला वर्ष अमरीकी इतिहास में सबसे गर्म वर्ष रहा.

संबंधित समाचार