छोटी स्कर्ट बनी छेड़छाड़ का कारण:विधायक

  • 29 जुलाई 2012
छेड़खानी इमेज कॉपीरइट pankaj biswas
Image caption हादसे की जगह पर पीड़ित लड़की के पिता मधुसूदन दास, पूरी घटना की जानकारी देते हुए.

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के विधायक चिरंजीत के उस बयान पर विवाद खड़ा हो गया है जिसमें उन्होंने महिलाओं के साथ छेड़छाड़ होने की वजह उनके छोटे कपड़े पहनना बताया था.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बांग्ला फिल्मों के अभिनेता और बरासात इलाके के विधायक की इस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है.

ममता बनर्जी ने साफ कह दिया कि वे इस बारे में कुछ नहीं जानतीं.

घटना शुक्रवार 28 जून की है जब राजधानी कोलकाता के नज़दीक ही दक्षिण 24 परगना ज़िले के बरासात इलाके के रेलवे स्टेशन की है.

बारहवीं की एक छात्रा अपने पिता के साथ कोचिंग क्लास से वापस लौट रही थी. तभी वहां पहले से मौजूद कथित तौर पर शराबी लड़के लड़की के साथ छेड़छाड़ करने लगे.

जब लड़की के पिता मधुसूदन साहा ने अपनी बेटी को बचाने की कोशिश की तो उन लड़कों ने उन्हें पीट-पीट कर बुरी तरह से घायल कर दिया.

बाद में स्थानीय लोगों ने वहां पहुंचकर लड़की के पिता मधुसूदन साहा को उन लड़कों से छुड़वाया और उनमें से एक को पुलिस के हवाले कर दिया. बाद में पुलिस ने एक और अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया था.

बरासात रेलवे स्टेशन का इलाका कोलकाता एयरपोर्ट के बिल्कुल नज़दीक पड़ता है. इसके बावजूद ये सुरक्षा की दृष्टि से काफी संवदेनशील माना जाता है क्योंकि शाम होते ही यहां पर आस-पास के शराबियों और नशेबाज़ों की भीड़ लग जाती है.

विवादास्पद बयान

इस पूरे मामले में शनिवार को तब एक और नया मोड़ आया जब बरासात के विधायक चिरंजीत उर्फ दीपक चक्रवर्ती ने इस संबंध में बयान देते हुए कहा कि ऐसा लड़कियों के छोटी स्कर्ट जैसे छोटे-छोटे कपड़े पहनने के कारण होता है क्योंकि उससे लड़के ऐसी हरकत करने के लिए प्रेरित होते हैं.

चिरंजीत द्वारा दिए गए इस विवादास्पाद बयान ने कोलकाता में एक नया विवाद पैदा कर दिया है. यहां तक मुख्यमंत्री की पार्टी के कुछ नेताओं और बुद्धिजीवियों ने भी इसकी निंदा की है.

आमतौर पर कोलकाता को एक बेहद संवेदनशील और बौद्धिक शहर माना जाता है लेकिन पिछले कुछ समय से यहां भी इस तरह की घटनाओं में काफी वृद्धि हुई है.

महिलाओं के उत्पीड़न की कई घटनाएँ

जिस जगह पर छेड़खानी की ये घटना हुई है उसी जगह पर आज से डेढ़ साल पहले 10वीं के एक छात्र की कुछ गुंडों ने सिर्फ इसलिए हत्या कर दी थी, क्योंकि उसने अपनी बहन के साथ हो रही छेड़खानी का विरोध किया था.

इमेज कॉपीरइट pankaj viswas
Image caption पत्रकारों से बात करते हुए बरासात के विधायक चिरंजीत उर्फ दीपक चक्रवर्ती.

ये दोनों ही घटनाए ये बताती हैं कि बरासात इलाके में अपराधियों को कोई खास रोकटोक या डर का सामना नहीं करना पड़ता.

इसके अलावा भी कोलकाता के पार्क स्ट्रीट इलाके में कुछ समय पहले एक लड़की के साथ पूरी रात गैंगरेप की खबर आई थी और पिछले हफ्ते ही हावड़ा शहर में एक युवती के साथ बलात्कार हुआ था.

प्रेक्षकों के अनुसार एक के बाद एक होतीं इन घटनाओं से ये साफ होता है कि कोलकाता में कानून व्यवस्था की गंभीर समस्या पैदा हो रही है और पुलिस लोगों को सुरक्षा देने में नाकाम साबित हो रही है.

इसके अलावा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कुछ विवादास्पद बयानों ने भी कहीं ना कहीं अपराधियों की हिम्मत बढ़ाने का काम किया है.

चिरंजीत के बयान के बाद उठे विवाद के बाद भी चिरंजीत ने मीडिया के सामने आकर सफाई तो दी लेकिन पहले कही गई बातों को ही दोहराया.

चिरंजीत के अनुसार, उन्होंने जो कुछ कहा वो एक बड़े भाई और अभिभावक के तौर पर कहा है और वे अपने पहले दिए गए बयान पर कायम हैं.

संबंधित समाचार