फ़्रांस: रोज़ा रखने पर चार प्रशिक्षक निलंबित

नाव की सैर करते हुए बच्चे इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption नाव की सैर करते हुए बच्चे

फ़्रांस में एक समर कैंप के चार खेल प्रशिक्षकों को रोज़ा रखने के कारण नौकरी से निलंबित कर दिया गया है. हालांकि अब शहर के मेयर ने कहा है कि इससे उठे विवाद को ख़त्म करने के लिए वो प्रशिक्षकों के निंलबन के फ़ैसले को वापस ले लेंगे.

राजधानी पैरिस के कऱीब गेनेवेलियर्स शहर के मेयर जैक बॉरगोइन ने कहा कि उन प्रशिक्षकों का कुछ भी खाने-पीने से इनकार करना उनकी नौकरी की शर्तों का उल्लंघन करता है.

इस्लाम धर्म के मानने वाले रमज़ान के पवित्र महीने में रोज़ा रखते हैं जिसके तहत वो सुबह में सुरज उगने से पहले और शाम में सुरज डूबने तक कुछ भी नहीं खाते-पीते हैं.

उन चार प्रशिक्षकों को 20 जुलाई को निलंबित किया गया था.

उन्हें फ़्रांस के दक्षिण-पश्चिमी शहर गेनेवेलियर्स में लगने वाले एक समर कैंप में जुलाई के महीने के लिए नौकरी पर रखा गया था.

जब एक स्कूल इंस्पेक्टर ने उस समर कैंप का दौरा किया और अधिकारी जब खाने के लिए बैठे तो देखा कि चार प्रशिक्षक कुछ भी नहीं खा-पी रहें हैं.

वे चारों प्रशिक्षक रोज़ा रखे हुए थे.

इस कारण उन्हें निलंबित कर दिया गया लेकिन उन्हें पूरे महीने का वेतन दिया गया.

'बच्चों की सुरक्षा'

मेयर का कहना है कि उनके फ़ैसले को भेद-भाव करने वाला नहीं देखना चाहिए क्योंकि उनके अनुसार अगर उन चारों प्रशिक्षकों की जगह अगर कोई महिला प्रशिक्षक डाइटिंग कर रही होती तो भी उनका फ़ैसला वही होता.

मेयर के अनुसार कैंप के बच्चों की ठीक तरह से देखभाल और सुरक्षा के लिए प्रशिक्षकों का खाना-पीना भी ज़रूरी है.

मेयर ने कहा कि इसी तरह की एक घटना में तीन साल पहले एक बच्चा सड़क हादसे में बुरी तरह घायल हो गया था और गाड़ी चलाने वाली महिला ने कुछ नहीं खाया था.

लेकिन उन चार प्रशिक्षकों ने मेयर के फ़ैसले को चुनौती देते हुए अदालत जाने का फ़ैसला किया है.

फ़्रांस में मुस्लिमों के संगठन 'फ़्रेन्च काउंसिल ऑफ़ मुस्लिम फ़ेथ' ने कहा है कि वो क़ानूनी कार्रवाई में उन चार प्रशिक्षकों की मदद करेगा.

फ्रांस में समान अधिकार के लिए अभियान चला रहे लोगों का कहना है कि रोज़ा रखना और खाना या नहीं खाना हर किसी का निजी फ़ैसला है.

इसकी मिसाल देते हुए उन्होंने कहा कि लंदन में चल रहे ओलंपिक के दौरान भी कुछ लोग रोज़ा रख रहें हैं और कुछ नही.

उनके मुताबिक मोरक्को की फ़ुटबॉल टीम रोज़ा रखती है जबकि मिस्र के एथलीट रोज़ा नहीं रख रहें हैं.

इस विवाद के बाद नगर परिषद ने एक बयान जारी कर कहा है कि बढ़ते तनाव को ख़त्म करने के लिए अगस्त महीने से कैंप में काम करने वाले प्रशिक्षकों के कॉंट्रैक्ट से दिन में खाने की शर्त को हटा लिया जाएगा.

मेयर ने आशा जताई कि सितंबर के महीने में इस विषय पर विचार विमर्श हो सकता है.

संबंधित समाचार