शिंदे टू जया - ‘असम फिल्मी मुद्दा नहीं‘

जया बच्चन (फाइल चित्र)
Image caption जया बच्चन ने कड़े शब्दों में शिंदे की इस टिप्पणी का विरोध किया.(फाइल चित्र)

लोकसभा में गुरुवार को उस वक्त हंगामा छिड़ गया जब सदन के नेता और गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने असम मामले पर चर्चा के दौरान जया बच्चन पर ताना कसते हुए कहा कि संसद की कार्रवाई कोई 'फिल्मी मुद्दा' नहीं और उन्हें इसे ध्यान से सुनना चाहिए.

इस बयान पर सदन में हंगामे के बाद भी सुशील कुमार शिंदे रुके नहीं और उन्होंने कहा, '' मैं खुद मुंबई से हूं और पूरे परिवार को जानता हूं. आप मुझे बोलने नहीं दे रही हैं.''

जया बच्चन ने कड़े शब्दों में शिंदे की इस टिप्पणी का विरोध किया और जया के बचाव में बोलते हुए भारतीय जनता पार्टी के नेता अरुण जेटली ने कहा कि वो अपने क्षेत्र की एक जानी-मानी हस्ति हैं और उनके बारे में इस तरह की टिप्पणी नहीं की जानी चाहिए.

बयान पर काफी हंगामे के बाद शिंदे को माफी मांगनी पड़ी.

बयानों पर विवाद

इससे पहले लोकसभा में बुधवार को उस समय खासा बवाल हुआ था जब विपक्षी दल भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार (यूपीए-2) को 'अवैध' कह दिया था.

आडवाणी ने असम पर बहस की शुरुआत करते हुए अपने बयान में कहा कि यूपीए सरकार को बचाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च किए गए.

कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी आडवाणी की इस टिप्पणी से खासी नाराज नजर आईं और सत्तापक्ष के विधायकों ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए आडवाणी से अपना बयान वापस लेने की मांग की.

बाद में आडवाणी ने सफाई देते हुए माना की उन्होंने यूपीए के दूसरे कार्यकाल के लिए ये वक्तव्य गलती से दे दिया औरन उनका संदर्भ संसद में हुए विश्वास मत से था.

संबंधित समाचार