दाढ़ी पर बवाल से रुकी हत्या के मामले की सुनवाई

 गुरुवार, 16 अगस्त, 2012 को 19:23 IST तक के समाचार

मेजर हसन का कहना है कि उन्हें आशंका है कि वो मारे जाएँगे और बिना दाढ़ी के मृत्यु पाप है

अमरीका में एक सैन्य अधिकारी पर 13 लोगों की हत्या के आरोप का मुक़दमा उसकी दाढ़ी के रहने या नहीं रहने देने के बारे में फ़ैसला होने तक टाल दिया गया है.

मेजर निदाल हसन के वकीलों का कहना है कि दाढ़ी उनके मुस्लिम होने की अभिव्यक्ति है मगर सेना नियमों के अनुसार सैनिकों को क्लीन शेव्ड यानी बिना दाढ़ी के होना चाहिए.

ये भी दलील दी जा रही है कि दाढ़ी के कारण गवाहों के लिए उनको पहचान सकना मुश्किल हो जाएगा.

मेजर हसन पर 2009 में टेक्सास प्रदेश में फ़ोर्ड हूड सैन्य ठिकाने के भीतर गोली चलाकर 13 लोगों की जान लेने का आरोप है.

किसी अमरीकी सैन्य अड्डे के भीतर गोलीबारी की ये अब तक की सबसे गंभीर घटना थी और दोषी पाए जाने पर 41 वर्षीय मेजर हसन को मौत की सज़ा हो सकती है.

ये मुक़दमा वैसे भी कई बार टाला जा चुका है. मेजर हसन सबसे पहले टेक्सास सैन्य परिसर में सुनवाई के लिए जून में पेश हुए थे और तब उन्होंने दाढ़ी रखी थी.

उन्हें बुधवार को अपनी दलील रखनी थी और सोमवार से उनके खिलाफ़ कोर्ट मार्शल की कार्रवाई शुरू होनी थी.

लेकिन अभी अन्य सभी कार्यवाहियों को उनकी दाढ़ी के बारे में फ़ैसला होने तक टाल दिया गया है.

अधिकार

निदाल हसन पर एक सैन्य अड्डे में गोली चलाकर 13 लोगों की जान लेने का आरोप है

अभी तक न्यायाधीश ने मेजर हसन को अदालत में रहने की अनुमति नहीं दी है क्योंकि उनके दाढ़ी रखने से सेना प्रावधानों का उल्लंघन होता है.

इसके लिए उन्हें अदालत की अवमानना का दोषी ठहराया भी जा चुका है और उन पर 1000 डॉलर का जुर्माना भी लगाया गया है.

साथ ही उन्हें मुक़दमे की कार्यवाही के दौरान अदालत में नहीं रहने दिया गया और इसके लिए उन्हें बगल के कैमरे में ले जाया गया जहाँ सीसीटीवी पर सुनवाई देखी जा सकती थी.

लेकिन न्यायाधीशों का कहना है कि कोर्ट मार्शल के लिए उन्हें अदालत में आना ही होगा क्योंकि यदि वे दोषी पाए गए तो उनके सामने इसके ख़िलाफ़ अपील का मौक़ा हो सकता है.

मेजर हसन के वकीलों का कहना है कि उनके मुवक्किल को ये आशंका है कि उनकी मृत्यु हो सकती है और उनका मानना है कि बिना दाढ़ी रखे मृत्यु को प्राप्त होना एक पाप होगा.

उनका कहना है कि उन्हें जबरन दाढ़ी हटाने के लिए कहना उनके अधिकारों का उल्लंघन होगा.

गोलीबारी की घटना के दौरान पुलिस ने मेजर हसन को क़ाबू में करने के लिए गोली भी चलाई थी जिसके बाद उनके शरीर का सीने से नीचे का हिस्सा लकवाग्रस्त हो गया है.

मेजर हसन को टेक्सास के सैन्य अड्डे से 25 किलोमीटर दूर एक विशेष अस्पताल में रखा गया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.