जज ने कहा खत्म हो मंदबुद्धि लड़की की 'जबरन' शादी

 शुक्रवार, 17 अगस्त, 2012 को 08:03 IST तक के समाचार

ब्रिटेन में जबरन या फिर माता-पिता की मर्जी से तय हुई शादी के मामलों को लेकर लंबे समय से बहस चलती आई है.

ऐसे ही एक मामले में ब्रिटेन के एक जज ने बांग्लादेशी मूल की एक ब्रितानी महिला की शादी खत्म करने के लिए कहा है. ये महिला विकलांग है और कुछ भी सीखने की उसकी क्षमता बेहद कम है.

जस्टिस पार्कर का कहना है कि ये महिला शादी के लिए रजामंदी देने की मानसिक क्षमता नहीं रखती और इंग्लैंड में इस शादी को माना नहीं जा सकता.

जज ने परिवार के इस तर्क को नकार दिया कि ये शादी महिला के हित में है. ये महिला अपने रोज़ के काम काज खुद से नहीं कर सकती.

2003 में उनके माता-पिता ने बांग्लादेश ले जाकर परिवार के एक अन्य सदस्य से उसकी शादी करवा दी थी. इस शादी के बाद महिला के पति को ब्रिटेन में आकर रहने की अनुमति मिल गई थी.

जब स्थानीय प्रशासन को इस शादी के बारे में पता चला तो पुलिस ने मामले में दखल दिया.

अपना फैसला लेने में अक्षम

माता-पिता का तर्क है कि वे जीवनसाथी ढूँढकर अपनी बेटी को सुरक्षा भाव देना चाहते थे और अगर शादी खत्म कर दी जाती है तो ये परिवार के लिए शर्मनाक बात होगी.

कोर्ट का ये ये फैसला ऐसे समय आया है जब ब्रिटेन में प्रशासन मंदबुद्धि लोगों की जबरन शादी के बढ़ते मामलों से निपटने में लगा है.

पिछले साल विदेश मंत्रालय और गृह मंत्रालय की जबरन शादी ईकाई के पास 50 से ज्यादा ऐसे मामले आए थे.

इंग्लैंड में स्थानीय कांउसिल ने इस समस्या से निपटने के लिए नए कदम उठाए हैं. सामाजिक कार्यकर्ताओं और अन्य कर्मचारियों को दिशा निर्देश जारी किए गए हैं कि इस बारे में जागरुकता बढ़ाए और ऐसे मामलों पर नजर रखें.

ब्रिटेन में अगर कोई खुद से शादी के लिए रजामंदी देने में सक्षम नहीं है तो ऐसे में उस व्यक्ति के उपलक्ष में विवाह के लिए हाँ कहना गैर कानूनी है.

जबरन शादी ईकाई का कहना है कि उसके पास ऐसे मामले बढ़ते जा रहे हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.