रासायनिक हमले की धमकी दी तो रणनीति बदलेंगे: ब्रिटेन

 गुरुवार, 23 अगस्त, 2012 को 13:35 IST तक के समाचार
कैमरन

कैमरन ने सीरिया के हालात पर दोनों देशो के प्रमुखों से बात की है.

ब्रिटेन ने भी अमरीका के सुर में सुर मिलाते हुए कहा है कि यदि सीरिया रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल की धमकी देता है तो उन्हें अपनी रणनीति बदलने पर मजबूर होना पड़ेगा.

ब्रिटेन की ये चेतावनी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की टेलीफोन पर की गई बातचीत के बाद आई है.

कैमरन ने सीरिया मसले पर फ्रांस के ऱाष्ट्रपति ओलांड से भी बात की है.

प्रधानमंत्री के प्रवक्ता ने बताया कि कैमरन ने सीरिया के हालात पर दोनों देशो के प्रमुखों से बात की है.

प्रवक्ता का कहना था कि कैमरन और ओबामा दोनो ही इस बात पर सहमत थे कि रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल की धमकी को स्वीकारा नही जा सकता और इससे उन्हें सीरिया के बारे में रणनीति बदलने पर मजबूर होना पड़ेगा.

ओबामा और कैमरन चाहते हैं कि सीरियाई विस्थापितों तक राहत पहुचाने का रास्ता और साफ किया जाए. फ्रांस के र्ष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांड ने कहा कि वो इस मामले को यंसुक्त राष्ट्र की बैठक में उठाएंगे.

सैन्य हस्तक्षेप

इस बीच, चीन के सरकारी मीडिया ने अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा पर आरोप लगाया है कि वो रासायनिक हथियारों का बहाना बना कर सीरिया में सैन्य हस्तक्षेप की योजना बना रहे हैं.

सरकारी समाचार ऐंजेंसी शिन्हुआ का कहना है कि एक बार फिर से पश्चिमी ताकतें सीरिया में सैन्य कारवाई का बहाना खोज रही हैं.

सोमवार को अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक संवाददाता सम्मेलन में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को लेकर सीरिया को कड़ी चेतावनी दी थी.

"हमने सीरिया के मंत्री के संवाददाता सम्मेलन की रिपोर्ट देखीं हैं. हमें इसमें नया कुछ नही दिखाई दिया. सीरिया की सरकार जानती है कि उसे क्या करना चाहिए.”"

विक्टोरिया न्यूलैंड

उन्होंने कहा था कि रासायनिक हथियारों की तैनाती अमरीका के लिए 'लाल रेखा' की तरह है.अगर ऐसा हुआ तो इसके गंभीर नतीजे होंगे.

शिन्हुआ ने ओबामा की टिप्पणी को खतरनाक बताया और कहा कि इससे सीरिया में राजनीतिक स्थायित्व की संभावनाएं कम होंगी और संघर्ष बढ़ेगा.

समाचार ऐजेंसी ने सोमालिया. इराक और लीबिया के उदाहरण देते हुए तर्क दिया है कि पश्चिमी देश सारिया में भी नफरत और हिंसा को बढावा देंगे.

बीजिंग में बीबीसी संवाददाता का कहना है कि हालांकि शिन्हुआ का ये कहना चीन की ओर से कोई आधिकारिक बयान नही है, लेकिन इससे चीन के साम्यवादी नेताओं की आशंका की एक झलक जरुर मिलती है

उप प्रधानमंत्री का प्रस्ताव खारिज

इस बीच अमरीका ने सीरिया के उप प्रधानमंत्री क़ादरी जमील के उस सुझाव को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि संघर्ष के समाधान के लिए राष्ट्रपति बशर अल असद सत्ता छोड़ सकते हैं.

ओबामा और कैमरन चाहते हैं कि सीरियाई विस्थापितों तक राहत पहुचाने का रास्ता और साफ किया जाए.

एक दिन पहले ही सीरिया के उप प्रधानमंत्री क़ादरी जमील ने कहा था कि सीरिया सरकार राष्ट्रपति बशर अल असद के सत्ता से हटने पर चर्चा के लिए तैयार है लेकिन इस वार्ता के लिए राष्ट्रपति के इस्तीफे की पूर्व शर्त नही होनी चाहिए.

अमरीकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता विक्टोरिया न्यूलैंड ने कहा, “हमने सीरिया के मंत्री के संवाददाता सम्मेलन की रिपोर्ट देखीं हैं. हमें इसमें नया कुछ नही दिखाई दिया. सीरिया की सरकार जानती है कि उसे क्या करना चाहिए.”

जुलाई में सीरिया की सरकार ने यह माना था कि उनके पास रासायनिक और जैविक हथियार हैं और किसी बाहरी आक्रमण की स्थिति में वो इनका इस्तेमाल कर सकता है.

हालाँकि सीरिया ने ये भी स्पष्ट किया था कि वो सीरियाई संकट के दौरान इनका इस्तेमाल नहीं करेगा, चाहे आंतरिक प्रगति जैसी भी हो.

चीन और रुस ने सीरिया पर संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों के लगाए जाने के प्रयासों का कड़ा विरोध किया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.