77 लोगों के हत्यारे ब्रेविक को 21 साल की जेल

 शुक्रवार, 24 अगस्त, 2012 को 14:49 IST तक के समाचार

जेल में ब्रेविक को इस तरह का एक कमरा रहने के लिए मिलेगा.

नॉर्वे में 77 लोगों की हत्या की बात स्वीकार कर चुके आंद्रे बेरिंग ब्रेविक की दिमागी हालत ठीक पाई गई है और अदालत ने उन्हें 21 साल की जेल की सजा सुनाई है.

आरोप था कि पिछले साल जुलाई में 33 वर्षीय दक्षिणपंथी ब्रेविक ने एक ही दिन में गोलियाँ चलाकर 77 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था. इस घटना में 240 लोग घायल हुए थे.

उन्होंने अपना जुर्म स्वीकार किया था.

ब्रेविक को साल भर से नॉर्वे की अत्यधिक सुरक्षा वाली इला जेल में रखा गया है.

ब्रेविक को जेल में और कैदियों से अलग थलग रखा जाएगा.

तीन कमरे की आरामगाह

इला जेल की प्रवक्ता एलेन बेरेक ने समाचार एजेंसी एपी से कहा," ब्रेविक को किसी भी अन्य कैदी से मिलने जुलने नहीं दिया जा रहा है. इसलिए भरपाई के तौर पर उसे रहने के लिए तीन कमरे दिए गए हैं."

ब्रेविक का हर कमरा क़रीब 86 वर्ग फीट का है. एक कमरे में वर्जिश करने के लिए फिटनेस के उपकरण रखे गए हैं. दूसरा उसके पढ़ने के लिए है जहाँ एक लैपटॉप मेज़ पर स्थापित है.

ब्रेविक का कंप्यूटर इंटरनेट से नहीं जुड़ा है ताकि वो बहरी दुनिया के साथ कोई संवाद स्थापित ना कर सकें. इला जेल की प्रवक्ता एलेन बेरेक ने समाचार एजेंसी एपी से कहा," यूँ समझिए यह एक उन्नत किस्म का टाईप-राईटर है."

"ब्रेविक को किसी भी अन्य कैदी से मिलने जुलने नहीं दिया जा रहा है. इसलिए भरपाई के तौर पर उसे रहने के लिए तीन कमरे दिए गए हैं"

एलेन बेरेक, इला जेल प्रवक्ता

ब्रेविक के वकीलों का कहना है कि ब्रेविक अपने नस्लवाद की विचारधारा पर जेल में किताबें लिखेगा.

अन्य कैदियों की तरह ब्रेविक को टीवी देखने और पत्र लिखने की इजाज़त होगी.

ब्रेविक को जेल में ही एक अत्याधिक ऊँची दीवारों से घिरे खुले स्थान पर आने जाने की अनुमति भी होगी.

अति सुरक्षित जेल

जेल के जिस हिस्से में उसे रखा जाएगा उस हिस्से में ब्रेविक को अन्य कैदियों से केवल उसी सूरत में मिलने दिया जाएगा जब कि यह तय हो कि वह दूसरों के लिए ख़तरा नहीं है.

इस जेल के 12 हिस्सों में 124 कैदियों को रखा जा सकता है. इस जेल में 230 कर्मचारी हैं जो पूरे समय कैदियों पर कैमरों की मदद से निगाह रखते हैं.

इस जेल में सुरक्षा बहुत ही ज़्यादा कड़ी है अंतिम बार साल 2004 में इस जेल से एक कैदी भाग निकला था जिसे कुछ ही घंटों में धर दबोचा गया.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.