खुद तारा बन गए नील आर्मस्ट्रॉन्ग...

 रविवार, 26 अगस्त, 2012 को 04:20 IST तक के समाचार

नील आर्मस्ट्रॉन्ग चांद पर कदम रखने वाले पहले व्यक्ति थे

चांद पर पहला कदम रखने वाले क्लिक करें नील आर्मस्ट्रॉन्ग इस दुनिया को अलविदा कह गए. बयासी वर्ष की आयु में शनिवार को उनका निधन हो गया.

कुछ ही दिनों पहले उनकी बाइपास सर्जरी हुई थी.

जुलाई क्लिक करें 1969 को अपोलो-11 मिशन का नेतृत्व करते हुए नील आर्मस्ट्रांग ने चांद पर पहला कदम रखा था. इस दौरान उन्होंने कहा था, “मनुष्य के लिए यह एक छोटा कदम, पूरी मानव जाति के लिए बड़ी छलांग साबित होगा.”

नौसेना में एक चालक के तौर पर काम करने के बाद नील आर्मस्ट्रॉंन्ग ने एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की. उन्होंने एक शोध परियोजना के साथ काम करना शुरू कर दिया जो कि बाद में अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का हिस्सा बन गया.

अंतरिक्ष यात्री

एक अंतरिक्ष यात्री के तौर पर चुने जाने के बाद वो उस चालक दल का हिस्सा बने जो पहली बार क्लिक करें अंतरिक्ष में दो पहिया वाहन ले जाने में सफल रहा.

नील आर्मस्ट्रॉंग को उनकी हृदय की नलियां अवरुद्ध होने के चलते गत दिनों अस्पताल में भर्ती कराया गया था जिसके बाद उनका आपरेशन किया गया. बीते रविवार को आर्मस्ट्रॉंग ने 82 वर्ष की उम्र पार की थी.

चांद पर गए इस मिशन के सफल होने के बाद नील आर्मस्ट्रॉंग सुर्खियों से दूर रहे.

लेकिन सितंबर 2011 में उन्होंने आर्थिक संकट के बीच नासा के भविष्य को लेकर की जा रही चर्चा में अपना पक्ष रखा था.

अपने दल के दूसरे साथियों सहित नील आर्मस्ट्रॉंग को अमरीका का सर्वोच्च नागरिक सम्मान कॉग्रेशनल गोल्ड मेडल से नवाज़ा गया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.