अमरीका में विवादित फिल्म के 'निर्देशक' से पूछताछ

Image caption पुलिस सुबह सुबह नकोउल के घर पहुँची

पैगंबर मोहम्मद पर बनी विवादित अमरीकी फिल्म को लेकर अरब जगत में प्रदर्शनों का दौर जारी है. इस बीच अमरीकी पुलिस कैलिफ़ॉर्निया में एक व्यक्ति के घर पहुँची और इस व्यक्ति ने माना है कि वो फ़िल्म से जुड़ा हुआ है.

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक पुलिस अब मान रही है कि नकूला बेसेले ही 'इनोसेंस ऑफ़ मुस्लिम्स' फ़िल्म के निर्देशक हैं.

माना जा रहा है कि नकूला बेसेले नकूला नाम का ये शख्स मिस्र मूल का है और कॉप्टिक इसाई है. उन्होंने बुधवार को एपी को बताया था कि वो उस कंपनी के मैनेजर हैं जिसने फिल्म का निर्माण किया.

बताया जा रहा है कि पैगंबर मोहम्मद पर बनी फिल्म में जो दरवाज़ा दिखाया गया है, नकूला बेसेले के घर का मुख्य दरवाज़ा भी वैसा ही है.

वैसे इस व्यक्ति ने इनकार किया है कि वो सैम बेसाइल है जो विवादित फिल्म के निर्देशक और लेखक बताए जाते हैं.

अभिनेत्री ने पूछा निर्देशक से ऐसा क्यों किया...

उधर वेबसाइट गॉकर के मुताबिक कैलिफॉर्निया की एक अभिनेत्री सिंडी ली गार्सिया ने माना है कि उसने फिल्म में छोटा सा रोल किया था और उसे बताया गया था कि फिल्म का नाम डेज़र्ट वारियर्स होगा जो मिस्र में दो हज़ार साल पहले की ज़िंदगी के बारे में होगी.

सीबीएस चैनल से बातचीत में अभिनेत्री सिंडी ने कहा, “मैंने सैम से पूछा है कि उन्होंने ऐसा क्यों किया, हमारे साथ क्यों किया. उन्होंने कहा इसमें तुम्हारी कोई ग़लती नहीं है. उन्होंने कहा कि तुम दुनिया को बता दो कि मैंने ये किया है और स्क्रिप्ट मैंने लिखी थी.”

विवादित फिल्म और उसका इंटरनेट क्लिप कहाँ से आया और इसे क्यों बनाया गया ये अब भी रहस्य बना हुआ है.

नकूला बेसेले नाम के जिस व्यक्ति के घर पुलिस गई थी वो फिल्म से किस हद तक जुड़े रहे हैं ये स्पष्ट नहीं है. लेकिन 2010 के एक मामले से जुड़े कोर्ट के दस्तावेज़ बताते हैं कि उन्होंने पहले कई नामों का इस्तेमाल किया है- निकोला बेसली, रॉबर्ट बेसली और इरविन सालामेह.

कई नाम हैं नकूला बेसेले के

नकूला बेसेले पर आरोप लगा था कि उन्होंने किसी अन्य की पहचान के आधार पर फर्ज़ी बैंक अकाउंट बनाए. एपी के मुताबिक उन्हें 21 महीने जेल की सज़ा हुई थी और कहा गया था कि अपने प्रोबेशन अधिकारी की अनुमति के बगैर वे पाँच साल तक इंटरनेट इस्तेमाल नहीं कर सकते.

वहीं खुद को फिल्म का निर्देशक और लेखक बताने वाले एक व्यक्ति ने मंगलवार को मीडिया से बात की थी और उसने फिल्म के समर्थन में भड़काने वाले और इस्लाम विरोधी बयान दिए थे.

कई जगह उसने ख़ुद को 52 तो कुछ जगह 56 साल का बताया और कहा कि वो इसराइल में जन्मे हैं और यहूदी एस्टेट एजेंट हैं.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि विवादित फिल्म में इस्लाम और पैगंबर मोहम्मद के बारे में जो भी आपत्तिजनक टिप्णियाँ हैं वे साउंडट्रेक में बाद में डब की गई हैं और अभिनेताओं ने ये संवाद नहीं बोले हैं.

संबंधित समाचार